International Labor Day : प्रतिदिन आठ घंटे काम का प्रस्ताव पास कराने के लिए मजदूरों को करना पड़ा कड़ा संघर्ष

Samachar Jagat | Wednesday, 01 May 2019 01:17:06 PM
Why International Labor Day is Celebrated And How it started

इंटरनेट डेस्क। प्रत्येक वर्ष 1 मई को अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस मनाया जाता है, यह दिन मजदूरों के सम्मान और उन्हें प्रोत्साहित करने का दिन होता है। कुछ कार्यालयों में इस दिन अवकाश रखा जाता है और कुछ में इस दिन को सेलिब्रेट किया जाता है। मजदूर दिवस की शुरूआत 1 मई 1886 से हुई और ये माना जाता है कि जब अमेरिका के मजदूरों की यूनियन ने अपने काम के घंटों को घटाकर कम करने के लिए हड़ताल की तो उसी समय शिकागों की हेमार्केट में बम का धमाका हुआ। 

बड़े ही अजीबोगरीब हैं ये घर, लोग इन्हें देखकर रह जाते हैं हैरान

ये धमाका किसने किया इसके बारे में पता लगाए बिना ही पुलिस ने मजदूरों पर ​गोलियां चला दी और इस घटना में सात मजदूरों की मौत हो गई। भले ही उस समय इस घटना का कोई प्रभाव मजदूर आंदोलन पर नहीं पड़ा लेकिन बाद में साल 1889 में पेरिस में आयोजित एक अंतरराष्ट्रीय महासभा की दूसरी बैठक में फ्रेंच क्रांति को ध्यान में रखते हुए एक प्रस्ताव पास किया गया जिसमें अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस मनाए जाने की बात स्वीकार की गई। 

अपने पार्टनर के साथ इन जगहों पर जाकर करें फुल एंजॉय

इस प्रस्ताव के पास होते ही अमेरिका में सिर्फ 8 घंटे काम करने की इजाजत दे दी गई और इसके बाद एक मई को मजदूर दिवस के रूप में मनाने की शुरूआत हुई। वहीं भारत में मजदूर दिवस मनाने की शुरुआत लेबर किसान पार्टी ऑफ हिन्दुस्तान द्वारा चेन्नई में 1 मई 1923 में हुई और उस समय इसको मद्रास दिवस के रूप में मनाया जाता था और इसके बाद राष्टीय स्तर पर इसे मान्यता मिली और ये पूरे भारत में मनाया जाने लगा। 

भारतीय सेना ने ट्वीट कर दिया हिममानव येती के होने का सबूत, इन तस्वीरों को देखकर आपको भी हो जाएगा यकीन



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.