इस वजह से यहां भाभियों को सोना पड़ता है अपने देवरों के साथ, जानें आखिर ऐसा क्यों

Samachar Jagat | Thursday, 07 Feb 2019 03:05:29 PM
Because of this, the married women sliping husband brother with their families, know why it is so


इंटरनेट डेस्क: भारत में ऐसे कई रीति रिवाज जिन्हे अपनाकर लोग अपनी जिंदगी को आगे बढ़ाते है तो कुछ ऐसे रीति रिवाज भी है जिन्हे जानकर हर किसी को बेहद हैरानी भी होती है भारत में आज भी कई समाज में बेहद प्राचीन प्रथा आज भी विद्यमान है उसी के अनुरूप समाज के लोग उनकी पालना भी करते नजर आते है ऐसे में आज हम आपकों एक ऐसे ही रिवाज के बारे में बताएंगे जिसमें बेहद अजीब परंपरा है इस प्रथा के तहत विवाह के बाद स्त्री को अपनी पति के अलावा अपने देवर संग भी शरीरिक संबंध बनाने पड़ते है आइए जानते है आखिर ऐसा क्यों होता है..

Old Post Image

 

ये प्रथा है राजस्थान के अलवर जिले के मनखेरा गांव के एक समाज की इस समाज में आज भी कुरीतियां विद्यमान है, जिसके चलते बीते कई सदियों से उनकी पालना भी करते नजर आते है् यहां मात्र दो गज जमीन की रक्षा के लिए ऐसा होता है जिसमें एक आदमी को अपनी बीवी अपने भाईयों के साथ बांटनी पड़ती है, ऐसे में इस प्रथा के चलते औरतों को अपने परिवार वालों की मर्जी से ही अपने सभी देवरों के साथ जबरन शारीरक संबंध बनाने पड़ते है, इसकों लेकर यहां के लोगों का कहना है की उन्होंने इन कानूनों का पालन नहीं किया तो उनके पूर्वज उनसे नाराज हो जाएंगे ये भी एक कारण है जिसकी वजह से ऐसा होता है

Old Post Imageदरअसल महिलाओ और पुरुषों के बीच बढ़ रहा लिंगानुपात और दूसरा ये हैं कि इन लोगों के पास धन और जमीन की कमी होने की  वजह से भी ऐसा होता है जिसके कारण इस गांव के कानून इतने सख्त हैं की उनकी पालना यहां के लोग करते नजर आते है यहीं नहीं इस बात पर खुलकर बोलने की आजादी भी किसी को नहीं है खबरों की माने तो महिला किसी गैर मर्द के साथ संबंध बनाने से इंकार करती है तो उसका बुरा हाल भी कर दिया जाता है, वैसे हम आपकों बतादें की इस जगह पर सरकार द्वारा किए गए एक अध्ययन से पता चलता है की यहां लोगों की पास जमीन की कमी है और दूसरा यहां सबसे ज्याद पुरुष अविवाहित है

Old Post Image

 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
रिलेटेड न्यूज़
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.