ब्राजील के डॉक्टरों ने दिया अनोखे कारनामे को अंजाम, मृत महिला के गर्भाशय से हुआ बच्चे का जन्म

Samachar Jagat | Saturday, 08 Dec 2018 10:46:17 AM
Brazilian doctors gave a unique work, Baby born of the dead woman's uterus

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्क। अगर किसी कारण वश महिला के शरीर में गर्भाशय न हो तो वह गर्भधारण नहीं कर सकती है और जीवन भर उसे निसंतान रहने का दर्द झेलना पड़ता है। वहीं किसी जीवित महिला के गर्भाशय का प्रत्यारोपण करना संभव नहीं हो पाता है क्योंकि कोई भी जीवित रहते हुए अपने अंग दान नहीं करना चाहता है। इसी कारण काफी समय से डॉक्टर ऐसा समाधान खोज रहे थे जिससे मृत महिला का गर्भाशय निकालकर इसे प्रत्योपित किया जा सके। इस प्रक्रिया में कई बार डॉक्टर्स को असफलता मिली लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। 


यहां पर नहीं हो सकती किसी की मौत, लगी हुई है पाबंदी

आपको बता दें कि हालहि में ब्राजील के डॉक्टरों ने इसमें कामयाबी हासिल की है और पहली बार एक मृत अंगदाता से प्राप्त गर्भाशय के प्रत्यारोपण के बाद एक महिला ने बच्ची को जन्म दिया है। खबरों के अनुसार, ब्राजील के साओ पाउलो विश्वविद्यालय के डानी एजेनबर्ग ने शोध का नेतृत्व किया। उन्होंने बताया कि सितंबर 2016 में मृत महिला के गर्भाशय का ट्रांसप्लांट किया गया था। 

यहां खुले में घूमते हैं शेर, लोगों से हाथ मिलाकर करते हैं हाय-हैलो

जिस महिला में गर्भाशय का प्रत्यारोपण किया गया वह दुर्लभ सिंड्रोम की वजह से बिना गर्भाशय के पैदा हुई थी। 32 वर्ष की इस महिला के शरीर में गर्भाशय का ट्रांसप्लांट किया गया। खबरों के अनुसार, मृत डोनर महिला की दिल का दौरा पड़ने से मौत होने के बाद उसके गर्भाशय को दूसरी महिला में प्रतिरोपित किया गया। गर्भाशय प्रत्यारोपण के करीब 7 महीने बाद इसमें गर्भधारण की प्रक्रिया प्रारंभ हुई। महिला ने 35 हफ्ते और तीन दिन बाद 2.5 किलो की बच्ची को सीजेरियन तरीके से जन्म दिया। 

इस किले में मौजूद है लोहे को सोना बनाने वाला पारस पत्थर, जिन्न करता है रखवाली

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.