'बंदर से मानव की उत्पत्ति कैसे हुई’ इसे साबित करने के लिए डार्विन सप्ताह

Samachar Jagat | Monday, 12 Feb 2018 12:50:01 PM
Darwin Week to prove it 'How did humans originate from monkey'

नई दिल्ली। उत्पत्ति के सिद्धांत के बारे में 'आम लोगों के मन में डाले जा रहे भ्रम’ को दूर करने के लिए और मानव की उत्पत्ति बंदर से कैसे हुई इसे सबूत के साथ साबित करने के लिए देशभर के वैज्ञानिक कल से डार्विन सप्ताह मनाने जा रहे हैं। केंद्रीय मानव संसाधन विकास राज्यमंत्री सत्यपाल सिंह के हाल के बयान ने वैज्ञानिक बिरादरी को अपनी प्रयोगशालाओं से बाहर आने और विज्ञान के क्षेत्र में राजनीतिक हस्तक्षेप के विरुद्ध अपनी आवाज बुलंद करने के लिए बाध्य किया है।

अब पुलिसकर्मी करेंगे गाइड का भी काम

सिंह ने पिछले महीने कहा था कि डार्विन का उत्पत्ति सिद्धांत वैज्ञानिक दृष्टि से गलत है और उसे स्कूल एवं कॉलेज पाठ्यक्रम से हटाने का प्रस्ताव रखा। द इंडिया मार्च फॉर साइंस ऑर्गनाइजिग कमिटी और ब्रेकथ्र्यू साइंस सोसायटी 12-18 फरवरी के दौरान डार्विन सप्ताह आयोजित कर रही है।

इस कमिटी ने वैज्ञानिक अनुसंधान एवं शिक्षा के वास्ते ज्यादा वित्तीय सहयोग की मांग करते हुए पिछले साल अगस्त में विरोध मार्च निकाला था। आईआईएसईआर कोलकाता के एसोसिएट प्रोफ़ेसर सौमित्रो बनर्जी ने कहा, ''डार्विन सप्ताह का उद्देश्य उस भ्रम को दूर करना है जो डार्विन के उत्पत्ति सिद्धांत के बारे में आम लोगों के दिमाग में डाला गया है।’’

ये कारण है की महिलाओं का श्मशाम में जाना मना है......

उस दौरान वैज्ञानिक डार्विन के उत्पत्ति सिद्धांत के बारे में विशेष अभियान चलायेंगे । यह सिद्धांत प्राकृतिक चयन पर आधारित है जिसके अनुसार जीवन का विकास लाखों साल पहले एक कोशकीय जीवों से हुआ। ब्रेकथ्र्यू साइंस सोसायटी ऑल इंडिया कमिटी के महासचिव बनर्जी ने कहा, ''हम विद्यालयों एवं महाविद्यालयों में जायेंगे तथा डार्विन सिद्धांत के बारे में भ्रम दूर करेंगे। हम दिखायेंगे कि यह बस सिद्धांत नहीं है बल्कि इसे सही साबित करने के सैकड़ों तरीके हैं।’’-एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.