गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ... बप्पा का किया जा रहा है विसर्जन 

Samachar Jagat | Thursday, 12 Sep 2019 03:43:07 PM
Ganapati Bappa Morya, next year you come soon ... Bappa is being immersed

इंटरनेट डेस्क। देवा श्री गणेशा देवा .... भगवान गणेश प्रथम पूज्य के रूप में पूजे जाते है। भगवान गणेश की स्थापना गणेश चतुर्थी के दिन की जाती है। छोटा-बड़ा सभी परिवार के सदस्यों के द्वारा भगवान गणेश की पूजा-अर्चना की जाती है। भगवान गणेश की स्थापना करने से पहले गणेश की मूर्ति को लाल कपडे़ से लपेटने के बाद ही घर में प्रेवश करवाया जाता है।


loading...

रिद्वी-सिद्वी के दाता भगवान गणेश की कृप्पा हर व्यक्ति पर बनीं रही यहीं कामना की जाती है। गणेश चतुर्थी पर स्थापना करने के बाद अनंत चतुर्दशी को उनका विसर्जन किया जाता है। भगवान गणेश की प्रतिमा को पानी में बहाया जाता है। भगवान गणेश का त्यौहार बडे़ हर्षोल्लास के साथ सम्मपूर्ण भारतवर्ष में मनाया जाता है। खासतौर पर मुंबई में भगवान गणेश की विशेष पूजा-अर्चना की जाती है।

महाराष्ट्र में गणपति बप्पा की पूजा-अर्चना करने के बाद चतुर्दशी का विसर्जन किया जाता है। भगवान गणेश के विसर्जन को लेकर महाराष्ट्र में खास व्यवस्था की जाती है। मुंबई में गणपति की विदाई शुरू हो गई है। ढोल-नगाड़ों के साथ लालबागचा राजा को विदा किया जा रहा है।

इस दौरान श्गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आश् गाकर लोग गणपति के अगले साल वापस आने की कामना कर रहे है।. गणपति विसर्जन को लेकर मुंबई पुलिस और बीएमसी (बृहन्मुंबई म्युनिसिपल कारपोरेशन) की ओर खास इंतजाम किए गए हैं। चप्पे चप्पे पर सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए हैं। 50 हजार से अधिक अधिकारी और अन्य स्टाफ सड़कों पर मौजूद रहेंगे। छह हजार से अधिक सार्वजनिक गणपति मंडल हैं और गुरुवार को एक लाख से अधिक गणपति प्रतिमाओं का विसर्जन होना है। स्थानीय सशस्त्र यूनिट जैसे एसआरपीएफ, दंगा नियंत्रण बल, क्यूआरटी, बीडीडीएस, मुंबई ट्रैफिक की अतिरिक्त टीमें गुरुवार को महानगर में तैनात रहेंगी।

पुलिस समुचित व्यवस्था बनाए रखने में होमगार्ड, आरएसपी, एनएसएस, एनसीसी, स्काउट गाइड और गैर सरकारी संगठनों की भी मदद लेगी। मुंबई अपने सबसे प्रिय देवता गणपति बप्पा को विदाई देने के लिए पूरी तरह तैयार है। मुंबई पुलिस, ट्रैफिक पुलिस, और बीएमसी की ओर से गणपति विसर्जन के आखिरी दिन के लिए व्यापक तैयारियां की गई हैं।

अनंत चतुर्दशी पर गणपित विसर्जन के आखिरी दिन भारी भीड़ की संभावना को देखते हुए मेडिकल सेंटर्स, वॉच टॉवर्स बनाए गए हैं। एक विशेष सेंटर लापता होने वाले लोगों और बच्चों के लिए बनाया गया है। स्थिति पर नजर रखने के लिए ड्रोंस की भी मदद ली जाएगी. लोगों से समुद्र में ज्यादा अंदर नहीं जाने की अपील की गई है। लोगों को भीड़ वाले पुलों से भी दूर रहने के लिए कहा गया है। उनसे कहा गया है कि भीड़ हल्की होने के लिए वे धैर्य से अपनी बारी की प्रतीक्षा करें। 
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.