भारतीय मूल के वैज्ञानिक अपनी टीम के साथ बनाएंगे अमेरिकी सेना के लिए खास रोबोट

Samachar Jagat | Friday, 24 May 2019 10:42:17 AM
Indian-origin scientist will create a special robot for the US Army with his team

वाशिंगटन। भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक और उसकी टीम को अमेरिकी सेना विभाग की एक एजेंसी से दो करोड़ डॉलर का ऐसा करार हासिल करने में सफलता हासिल की है जिसके तहत ये लोग एक ऐसी प्रणाली का विकास करेंगे जिसमे दिमाग की मदद से कई मानवरहित हवाई वाहनों का नियंत्रण केवल एक जवान कर सकेगा, यहां तक कि बम निरोधक रोबोट भी इस तरह से काम कर सकेंगे। 

देश का पहला महिलाओं द्वारा संचालित रेलवे स्टेशन, यहां गार्ड से लेकर सफाई कर्मियों के रूप में महिलाओं को देखकर लोग रह जाते हैं हैरान

अमेरिका के अनुसंधान एवं विकास संगठन बेटले में कार्यरत एक वरिष्ठ शोध वैज्ञानिक गौरव शर्मा के नेतृत्व में यह दल, उन छह दलों में से एक है जो दिमाग और मशीन के रिश्ते को विकसित करेगा। यह जानकारी डिफेंस एडवांस्ड रिसर्च प्रोजेक्टस एजेंसी ने दी है। शर्मा (40) से कहा गया है कि वे ऐसी प्रणाली विकसित करें जिसमें सैनिक को एक ऐसा हेलमेट पहनने की सुविधा मिल सके जिसकी मदद से वह कई मानवरहित हवाई वाहनों का नियंत्रण अपने मस्तिष्क से करने में सक्षम हो सके, यहां तक कि बम निरोधक रोबोट का अपने दिमाग से नियंत्रण कर सके।

युवक ने किया एक साथ दो युवतियों से विवाह, एक ही मंडप में लिए दोनों के साथ सात फेरे

बेटले की अगली पीढ़ी की नॉनसर्जीकल न्यूरोटेक्नोलॉजी(एन3) कार्यक्रम मिनिमली इनवेसिव न्यूरल इंटरफ़ेस प्रणाली को 'ब्रेनस्टॉर्म’ (ब्रेन सिस्टम टू ट्रांसमिट ओर रिसीव मैग्नेटोइलेक्ट्रिकल सिग्नल्स) नाम दिया गया है। करीब दो करोड़ डॉलर की इस परियोजना के लिए चार साल का वक्त दिया गया है। -एजेंसी

अजब-गजब: लेफ्ट में नहीं राईट में धड़कता हैं इस व्यक्ति का दिल, शरीर के कई अंग हैं उल्टी दिशा में



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.