नासा ने हिम क्षय का पता लगाने के लिए अंतरिक्ष लेजर उपग्रह भेजा

Samachar Jagat | Sunday, 16 Sep 2018 10:38:28 AM
NASA sent space laser satellite to detect snow decay

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

लॉस एंजिलिस। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने विश्व में हिम क्षय का पता लगाने और जलवायु के गर्म होने के कारण बढ़ते समुद्र स्तर के पूर्वानुमानों में सुधार के लिए शनिवार को एक अत्याधुनिक अंतरिक्ष लेजर उपग्रह का प्रक्षेपण किया। आइससैट-2 नाम का एक अरब डॉलर की लागत वाला आधा टन वजनी उपग्रह स्थानीय समयानुसार सुबह छह बजकर दो मिनट पर रवाना हुआ।

भारत की पहली स्वदेशी परमाणु रोधी मेडिकल किट विकसित

इसे कैलिफोर्निया के वैंडेनबर्ग वायुसेना स्टेशन से डेल्टा-2 रॉकेट के जरिए प्रक्षेपित किया गया। नासा टेलीविजन पर प्रक्षेपण प्रस्तोता ने कहा, ''तीन, दो, एक, रवाना।" ''हमारे लगातार बदलते गृह ग्रह (धरती) पर ध्रुवीय हिम की चादर से संबंधित अनुसंधान के लिए आइससैट-2 रवाना।" लगभग दस साल में यह पहली बार है जब नासा ने समूची धरती पर हिम सतह की ऊंचाई मापने के लिए कक्षा में उपग्रह भेजा है।

इससे पहला मिशन आइससैट वर्ष 2003 में प्रक्षेपित किया गया था और 2009 में यह खत्म हो गया था। पहले आइससैट मिशन ने खुलासा किया था कि समुद्री हिम सतह पतली हो रही है और ग्रीनलैंड तथा अंटार्कटिका में हिम परत खत्म हो रही है। नौ साल के दौरान इस बीच, ऑपरेशन आइसब्रिज नाम से एक विमान मिशन ने भी आर्कटिक और अंटार्कटिक के ऊपर उड़ान भरी तथा बर्फ के बदलते आकार की तस्वीरें लीं।

पर्यटक को चांद के पास भेजने की योजना बना रहा है स्पेस-एक्स

लेकिन अंतरिक्ष से देखा गया नजारा-खासकर नवीनतम प्रौद्योगिकी के साथ अधिक सटीक होना चाहिए। नई लेजर एक सेकंड में 10 हजार बार प्रदीप्त होगी, जबकि आइससैट लेजर एक सेकंड में 40 बार प्रदीप्त होती थी। उपग्रह के मार्ग में हर 2.3 फुट पर हिम आकार का माप लिया जाएगा।- एजेंसी

काला हिरण शिकार मामला: राजस्थान सरकार पांच आरोपियों को बरी करने के खिलाफ दायर करेगी अपील

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती : अतुल्य भारत नारे में शामिल होंगे शब्द गांधी की भूमि

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.