जल्द ही गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में शामिल हो सकता है पन्ना टाइगर रिजर्व की सबसे उम्रदराज इस हथिनी का नाम

Samachar Jagat | Sunday, 12 Aug 2018 12:43:34 PM
Panna Tiger Reserve's oldest elephant's name may be included in guinness book of world records

इंटरनेट डेस्क। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करवाना किसी इंसान के लिए बहुत गर्व की बात होती है। जो काम सबसे पहले और कुछ अलग तरीके से किया जाता है उसका नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो जाता है। इंसानों के साथ ही जानवर भी इस रिकार्ड को अपने नाम करवाने में पीछे नहीं हैं। हालहि में सबसे उम्रदराज हथिनी को भी इस रिकार्ड में शामिल करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। आपको बता दें कि मध्यप्रदेश के पन्ना टाइगर रिजर्व की सबसे उम्रदराज मानी जाने वाली लगभग एक सौ साल की हथिनी का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराने के लिए उसके जन्म से संबंधित रिकॉर्ड मंगाए गए हैं।

सबसे उम्रदराज हथिनी जिसका नाम वत्सला है के जन्म का पूरा रिकॉर्ड केरल प्रान्त के नीलांबुर फॉरेस्ट डिवीजन से मंगाया गया है। खबरों के अनुसार इस हथिनी का जन्म केरल के नीलांबुर फॉरेस्ट डिवीजन में हुआ और यहीं इसका पालन-पोषण हुआ। इसके बाद इस हथिनी को 1972 में वहां से मध्यप्रदेश के होशंगाबाद के बोरी अभयारण्य में लाया गया और 1992 में ये पन्ना टाइगर रिजर्व पहुंची, तभी से यह यहां की धरोहर बनी हुई है। पहले ये हथिनी यहां आने वाले पर्यटकों को अपनी पीठ पर बिठाकर टाइगर रिजर्व की सैर कराती थी और जब इसकी उम्र ज्यादा हो गई तो इसे रिटायर कर दिया गया। 

आपको बता दें कि हाथी और हथिनियों की उम्र अधिकतम पच्चासी या नब्बे वर्ष ही रहती है और अभी तक एक सौ वर्ष पुरानी हथिनी को लेकर कहीं भी रिकार्ड नहीं है। ऐसे में कागजी प्रक्रिया पूरी होने के बाद हथिनी वत्सला का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल हो सकता है। 

लोगों में बढ़ रहा है क्रूज ट्रेवलिंग का क्रेज , भारत में आकर विदेशी पर्यटक भी उठा रहे हैं लुत्फ



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.