OMG : परेशान पतियों ने दशहरा पर शूर्पणखा का पुतला किया दहन

Samachar Jagat | Saturday, 20 Oct 2018 12:37:38 PM
Worried husbands burnt effigy of Shurpanakha on Dussehra

औरंगाबाद। दशहरा पर रावण का पुतला दहन करने की परंपरा रही है, लेकिन कुछ परेशान पतियों ने शूर्पणखा का पुतला जलाकर यह त्योहार अलग तरह से मनाया। शूर्पणखा लंका नरेश रावण की बहन थी। रावण, रामायण के एक प्रमुख पात्र है। 
पत्नियों के सताए पतियों की संस्था पत्नी पीड़ित पुरुष संगठन के सदस्यों ने औरंगाबाद के पास करोली गांव में बृहस्पतिवार को सूर्पणखा का पुतला दहन किया । 

नई स्मार्ट ट्रैफिक लाइट से यातायात का समय बचेगा, वायु प्रदूषण घटेगा

संस्था के संस्थापक भारत फुलारे ने कहा, भारत में सभी कानून पुरुषों के खिलाफ और महिलाओं के पक्ष में हैं। वे छोटे - छोटे मुद्दों पर अपने पति एवं ससुराल वालों को परेशान करने के लिए इनका दुरुपयोग करती हैं। उन्होंने कहा, देश में पुरुषों के खिलाफ क्रूरता की हम निंदा करते हैं। एक सांकेतिक कदम के तौर पर हमारे संगठन ने दशहरा के मौके पर शूर्पणखा का पुतला जलाया।

2023 तक चीन को पीछे छोड़ डायबिटीज के सबसे ज्यादा रोगियों वाला देश बन जाएगा भारत

हिंदू पौराणिक कथाओं के मुताबिक रावण और राम के बीच युद्ध का मुख्य कारण शूर्पणखा थी। शूर्पणखा के अपमान का प्रतिशोध लेने के लिए रावण ने साधु का वेश धारण कर सीता का अपहरण कर लिया था, जिसके चलते अंततः राम - रावण का संग्राम हुआ था। फुलारे ने दावा किया कि 2015 के आंकड़ों के अनुसार देश में आत्महत्या करने वाले विवाहित लोगों में 74 प्रतिशत पुरुष थे। साथ ही, संस्था के कुछ सदस्यों ने देश में चल रहे मी टू अभियान पर भी सवाल उठाए । -एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.