तेल में उछाल से महंगाई और बढ़ेगी

Samachar Jagat | Tuesday, 04 Sep 2018 02:55:15 PM
Bounce in oil will increase inflation

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने आशंका जताई है कि इस साल महंगाई में और इजाफा हो सकता है। आरबीआई ने 2017-18 की जारी सालाना रिपोर्ट में कहा है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि और तेल बाजार में मांग की आपूर्ति में हो रहे बदलाव का प्रभाव देश के व्यापार घाटे पर होने वाला है। आरबीआई ने सरकार को महंगाई के मोर्चे पर चेताते हुए कहा कि आने वाले दिनों में महंगाई ऊपर जाने की आशंका है और इसके लिए तैयारी और सावधानी दोनों की जरूरत है। उसमें महंगाई पर काबू पाने के लिए तत्काल कदम उठाने की सलाह देते हुए कहा है कि वर्तमान में देश का व्यापार घाटा पांच साल के उच्चतम स्तर पर पहुंचकर 18 अरब डालर हो गया है।

 इसी तरह बीते जुलाई में थोक महंगाई सूचकांक की दर बढक़र 5.09 फीसदी पर पहुंच गई थी। जबकि सब्जियों फलों की कीमतों में ज्यादा बढ़ोतरी नहीं हुई थी। साल 2017 की जुलाई में यह दर महज 1.88 फीसदी पर थी। खुदरा महंगाई दर की 2017 के मध्य से लगातार बढ़ रही है और वर्तमान में यह 5 फीसदी के आसपास बनी हुई है। 

रिजर्व बैंक की महंगाई बढ़ने की आशंका को लेकर आई रिपोर्ट आए चार दिन भी नहीं हुए है कि पेट्रोल और डीजल के दाम शनिवार को लगातार सातवें दिन बढ़ते हुए नए शिखर पर पहुंच गए। दिल्ली, कोलकाता और मुंबई में पेट्रोल 16-16 पैसे बढक़र क्रमश: 78.68 रुपए, 81.60 रुपए और 86.09 रुपए प्रति लीटर पर पहुंच गए। यह दिल्ली और कोलकाता में इसका अब तक का उच्चतम स्तर है। मुंबई में भी यह 86.24 रुपए प्रति लीटर के उच्चतम स्तर के काफी करीब है। इसी प्रकार चेन्नई में पेट्रोल के दाम 17 पैसे चढक़र 81.75 रुपए प्रति डालर पर पहुंच गए है।

यह यहां भी इसका रिकार्ड स्तर है। डीजल के दाम चारों महानगरों में लगातार नए रिकार्ड बना रहे हैं। रसोई गैस (एलपीजी) के दामों में भी प्रति सिलेंडर 30 रुपए की बढ़ोतरी की गई है। सीएनजी और पीएनजी के दामों में वृद्धि हुई है। इसके अलावा भारतीय रुपया अमेरिकी डालर के मुकाबले सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है। 

एक अमेरिकी डालर की कीमत 70.59 रुपए पर पहुंच गई। डालर के मुकाबले रुपया पहली बार इतना कमजोर हुआ है। रुपए की गिरावट से भारत के लिए अंतरराष्ट्रीय बाजार से तेल का आयात करना महंगा होगा। इसका असर घरेलू उपभोक्ताओं पर भी पड़ेगा। आने वाले दिनों में पेट्रोल-डीजल के दाम और बढ़ेंगे। इससे साबुन, शैंपू, पेंट उद्योगों की लागत बढ़ेगी। ऑटो क्षेत्र पर भी असर होगा। केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में तो बढ़ोतरी कर दी है। आम जनता को महंगाई से निजात दिलाने के लिए भी कदम उठाने होंगे।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.