चिन्ता मत करना, मैं आपके साथ खड़ा हूं

Samachar Jagat | Wednesday, 15 May 2019 10:25:52 AM
Do not worry, I'm standing with you

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

ये मात्र कुछ शब्द नहीं है, मात्र एक वाक्य नहीं है वरन् यह नेक जीवन की नींव है, महान जीवन का प्रतिबिंब है, इंसानियत का फरिश्ता है, अपनेपन का पवित्र धागा है और संवेदनाओं का महासागर है। ये सब मूलभूत गुण व्यक्ति में हर पल विद्यमान होते हैं, बस अंतर इतना सा है कि किसी को ये सब गुण दिखाई देते हैं, दिन-रात साथ चलते हैं, दिन-रात साथ निभाते है और किसी-किसी को ये सब गुण चौबीस घंटों में एक बार भी दिखाई नहीं देते हैं। इंसान में सोचने-समझने की शक्ति दी है, किसी की मदद करने के लिए संवेदनाएं दी हैं, मजबूत हाथ-पैर दिए हैं और किसी को मानसिक शक्ति पहुंचाने के लिए मानसिक दृढ़ता देने के लिए अच्छी भावना और अच्छे विचार दिए हैं।

आज धन-दौलत और भौतिक चीजों को भगवान से भी बड़ा समझा जाने लगा है, इस धन-दौलत के लिए व्यक्ति अपनी सारी सीमाएं लांघ रहा है, मान-मर्यादाएं सब बौनी होती जा रही हैं, रिश्तों को पेड़ की डाली की भांति तोड़ रहा है, बुढ़ापा सिसक रहा है, गरीब फफक रहा है जबकि उसका ही सगा भाई पैसों को विलासिता में गंवा रहा है, फूहड़पन चौराहों पर नाच रहा है, नंगापन यहां-तहां-हर कहां बिन देखे दिखाई दे रहा है और अश्लीलता तो सभी हदें पार कर गई हैं। ऐसे में लोग भीड़ का हिस्सा बन रहे हैं, जो भीड़ कर रही है वही कर रहे हैं, अपना स्वयं का वजूद भूल बैठे हैं, दायित्व भूल बैठे हैं, ईमान कहीं आसपास नजर नहीं आता है, मेहनत से लोग बचते हैं अर्थात् शॉटकर्ट अपनाकर दिन-दहाड़े ठगते हैं। 

आइए, हम इस प्रकार के वातावरण को बदलें क्योंकि सच्चा सुख और स्थायी आनंद तो घर बनाने में हैं, घर की साख को ऊंचा करने में है, परिवार को समृद्ध करने में है, रिश्तों को निभाने में हैं, एक-दूसरे की मदद करने में है, एक-दूसरे को राह दिखाने में हैं उसे आत्मियता देने में है, गले लगाने में है, अच्छा व्यवहार करने में है, अपने विचार और संस्कार उच्च स्तर के बनाने में है और किसी को सुकून के दो पल देने में है। हमेशा याद रखिए, किसी की मदद करने का सीधा सा अर्थ है कि आपकी भी मदद होगी इसलिए किसी हारते अपने को, टूटते इंसान को कहिए- ‘‘चिन्ता मत करना, मैं आपके साथ खड़ा हूं।’’

प्रेरणा बिन्दु:- 
जिंदगी सरकती रही
अपनों के साथ से
मुसीबतों ने तोड़ दिया
भाई ने उठा लिया हाथ से।

loading...


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.