दुआ खुशहाल जीवन की सबसे अच्छी दवा है

Samachar Jagat | Friday, 10 Aug 2018 12:22:29 PM
Dua is a happy life's best medicine

यह  बहुत बार सुनने को मिलता है कि सच्चे दिल से निकली दुआ बहुत महंगी दवा से भी ज्यादा असरकारक होती है। जबकि दवा में प्रमाणिकता है, वैज्ञानिक विश्लेषण होता है और होते हैं रोग को भगाने वाला साल्ट। लेकिन दुआ में ऐसा कोई साल्ट नहीं होता है और कोई वैज्ञानिक, विश्लेषण भी नहीं होता है। लेकिन दुआ का जो साल्ट होता है उसमें प्रेम, करुणा, ममता, समता, आत्मियता, एकता, भाईचारा, इंसानियत और ईश भाव का मिश्रण होता है और जब नफरत, वेमनस्यता, क्रोध, प्रतिशोध और अन्य दुर्गुणों का प्रवेश मनुष्य के मन मस्तिष्क में होने का प्रयास करे तो फिर प्रेम और करुणा से ही इन्हें रोका जा सकता है। इस प्रकार दुआ से खूबसूरत आदर्श और अच्छी कोई दूसरी चीज या दवा इस दुनिया में नहीं है जो व्यक्ति को सम्पन्न बना सके जो खुशहाल बना सके, सकारात्मक बना सके और सृजनशील बना सके।

यदि कोई व्यक्ति अपने को खुशहाल करना चाहता है, सर्वप्रिय बनाना चाहता है और कुछ विशेष करना चाहता है तो यह निश्चित बात है कि उसे दिल से दुआएं देनी होंगी और दूसरों से अपने लिए दुआएं लेनी भी होगी। यदि कोई अपना बीमार है तो उसके ठीक होने की दुआ करें, कोई परेशानी में अपना समय काट रहा है तो दिल से उसके लिए दुआ करें, एक बार नहीं बार-बार करें, निश्चित रूप से उसकी परेशानी दूर होगी और उससे भी बड़ी बात यह होगी कि आपको बहुत अच्छा लगेगा, शगुन मिलेगा और अंदर से खुशी मिलेगी। कोई विद्यार्थी स्कूल जा रहा है, परीक्षा देने जा रहा है, उसको दुआ दीजिए वह भी आपको धन्यवाद देगा और जब दोनों तरफ से ऐसा होता है तो माहौल में पोजिटिव ऊर्जा का संचरण होता है और खुशी का माहौल बन जाता है।

 दुआ लेने में दुआ देने में किसी प्रकार का धन खर्च नहीं होता है, तन को जोर नहीं लगाना पड़ता है, मन को जोर नहीं लगाना पड़ता है, इसके लिए तो केवल अहंकार को मारना पड़ता है, अज्ञान को दूर भगाना पड़ता है। कितना अच्छा लगता है जब कोई आपके सिर पर हाथ रखकर कहती है कि जुग-जुग जीओ बेटा, बहुत महान बनो बेटी, तुम्हें सारे जहां की खुशियां मिल जाएं, तुम सदा खुशहाल रहो, तुम्हें अच्छी से सर्विस मिले, तुम देश का नाम रोशन करो, तुम सदा स्वस्थ रहो, सारे जहां की खुशियां तुम्हारे नाम हो जाएं, तुम्हारे पास सब साधन सुविधा हों और तुम सबसे अच्छे बनो। जब कोई तुम्हें ऐसे कहकर अनगिनत दुआएं देता है तो यह निश्चित है कि आपको बहुत खुशी होगी और उस व्यक्ति के प्रति आपका नजरिया बहुत अच्छा होगा। और यदि आपके नजरिए में भी कहीं पर थोड़ी-बहुत गड़बड़ है तो वह भी ठीक हो जाएगी।

जब आपको दुआएं मिलती हैं तो यह आपका भी दायित्व बन जाता है कि आप भी किसी को अपने दिल से दुआएं दें। आपको बहुत खुशी मिलेगी जब आप किसी की प्रशंसा करेंगे अच्छे काम पर किसी को दुआएं देंगे उसकी परेशानी को दूर करने के लिए। दुआएं देने में न तो पसीना बहाना पड़ता है, न ताकत लगानी पड़ती है, न कुछ अलग से सीखना पड़ता है, न अलग से समय निकालना पड़ता है और न ही इनके लिए किसी से परमिशन लेनी पड़ती है। आइए, वादा करें किसी हारे-थके, निराश, रोगी और परेशान व्यक्ति के लिए दिल से दुआ करें कि वह बहुत खुशहाल हो जाए।

प्रेरणा बिन्दु:- 
देना जो चाहते हो तो
दुआएं दो उपहार में
नफरत के शोले जला देते
जिंदगी जिओ प्यार में।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.