गांव से शहर तक ऑनलाइन कारोबार का बढ़ता दायरा

Samachar Jagat | Monday, 06 Aug 2018 10:30:38 AM
Increasing online business segment from village to city

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

ऑनलाइन कारोबार गांव से शहर तक क्रांतिकारी परिवर्तन का वाहक बन गया है। यह बाजार इंटरनेट और स्मार्टफोन के बूते तेजी से आगे बढ़ रहा है। गांव से महानगर तक लोग अब ऑनलाइन कारोबार से लाभ उठा रहे हैं।

ई-कॉमर्स जिसे ऑनलाइन खुदरा कारोबार के रूप में भी जाना जाता है, यह एक प्रोसेस हैं जिसके द्वारा बिजनेस और कन्जूमर एक इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से माल और सर्विसेस को बेचते और खरीदते हैं। इलेक्ट्रॉनिक कॉमर्स  इंटरनेट जैसे बड़े इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क पर व्यापार करने का एक तरीका है। ई-कॉमर्स के अंतगर्त वस्तुओं या सेवाओं को खरीद या बिक्री इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम जैसे - इंटरनेट के द्वारा होता है। यह इंटरनेट पर व्यापर है। ई-कॉमर्स को व्यापक रूप से इंटरनेट पर उत्पादों की खरीदारी और बिक्री माना जाता है। खरीदारी करने वालों के लिए ऑनलाइन साइट्स पर मिलने वाला भारी डिस्काउंट एक बहुत बड़ा आकर्षण है।

 वर्तमान में ई-कॉमर्स इंटरनेट के सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं में से एक है। ई-कॉमर्स उपभोक्ताओं को समय या दूरी की बिना कोई बाधाओं के साथ वस्तुओं और सेवाओं का इलेक्ट्रॉनिक रूप से आदान-प्रदान करने की अनुमति देता है। इंटरनेट पर सामान खरीदना और बेचना ई-कॉमर्स के सबसे लोकप्रिय उदाहरणों में से एक है। ई-कॉमर्स की शुरुआत 1960 के दशक से शुरू  हुई थी, जब बिजनेसेस ने अन्य कंपनियों के साथ बिजनेस डॉयक्युमेंट को शेयर करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक डाटा  इंटरचेंज  का प्रयोग शुरू  किया। ई-कॉमर्स की हिस्ट्री को ईबे और अमेजन ने नयी पहचान दी जो इलेक्ट्रॉनिक ट्रैन्सैक्शन को शुरू  करने वाली पहली इंटरनेट कंपनियों में से थी। 1990 के दशक में  ईबे और अमेजन  के उदय से ई-कॉमर्स उद्योग में क्रांतिकारी बदलाव आया। अब ग्राहक अपनी सुविधा के अनुसार वस्तुओ की ऑर्डर अपने घर पर बैठ कर दे सकते हैं। और इसकी डिलेवरी उन्हे उनके घर पर ही मिल जाती हैं। यह उन लोगों के लिए सबसे अच्छा खरीदारी अप्शन है जो हमेशा व्यस्त होते हैं।

भारत में ऑनलाइन खुदरा कारोबार (ई-कॉमर्स) का राजस्व अगले पांच वर्षों में दोगुना बढ़ जाएगा। डिजिटल और विपणन कंपनी ‘एडमिटेड’ ने अपनी रिपोर्ट में बताया है कि देश में ई-कॉमर्स का बाजार सालाना काफी तेजी से बढ़ रहा है। रिपोर्ट में बताया गया है कि वर्ष 2017 में कुल जनसंख्या के करीब 37 प्रतिशत  लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते थे, इनमें से 14 प्रतिशत नियमित रूप से ऑनलाइन खरीदारी कर रहे थे। जनसंख्या में इंटरनेट उपयोक्ताओं की यह भागीदारी वर्ष 2021 तक बढक़र 45 प्रतिशत होने की उम्मीद है। इसी तरह ऑनलाइन खरीदारों की संख्या भी करीब 90 फीसदी तक बढऩे की उम्मीद है।

उद्योग संघ एसोचौम और डेलॉयट के संयुक्त अध्ययन के मुताबिक, ई-कॉमर्स बाजार 2014 में 87 हजार करोड़ रुपए (13.6 अरब डॉलर) से बढक़र 2015 में 1.2 लाख करोड़ (19.7 अरब) पर पहुंच गया।  रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2017 में करीब 12 करोड़ लोगों के ऑनलाइन खरीदारी करने का अनुमान है। उद्योग संगठन एसोचौम और रिसर्जेंट द्वारा किए अध्ययन के अनुसार उपभोग और लॉजिस्टिक में सुधार होने से इस वर्ष ऑनलाइन खरीदारी करने वालों की संख्या में बढ़ोतरी का अनुमान है। यह संख्या करीब 12 करोड़ पहुंचने की संभावना है। इससे पहले वर्ष 2016 में 10.5 करोड़ लोगों ने ऑनलाइन शपिंग की थी। 

अध्ययन में दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, बंगेलुरु, अहमदाबाद, हैदराबाद, पुणे जैसे कई शहरों के लोग शामिल थे। इंटरनेट के बढ़ते प्रयोग ने ऑनलाइन सामान बेचने वालों की चांदी  हो रही है इससे माल बेचने वाला और खरीदने वाला सस्ता माल मिलने से खुश है। इंटरनेट उपयोगकर्ता और ऑनलाइन खरीदारों की बढ़ती संख्या के चलते देश का डिजीटल कॉमर्स (ई-कॉमर्स) बाजार  2018 तक बढक़र 3.2 लाख करोड़ रुपए (50 अरब डॉलर) के पार पहुंच जाने की उम्मीद है। वर्तमान में ई-कॉमर्स बाजार का मूल्य 2.4 लाख करोड़ रुपए (38.5 अरब डॉलर) है जो अगले दशक तक बढक़र 13.72 लाख करोड़ रुपये तक पहुँचने की सम्भावना है। ई-कॉमर्स इको सिस्टम में बैंक और अन्य वित्तीय कंपनियां भुगतान गेटवे के माध्यम से आसानी से भुगतान करने के लिए सुरक्षित ऑनलाइन मंच प्रदान कर रही हैं।

देश के ई-कॉमर्स क्षेत्र में  अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट का प्रवेश हो गया है। अमेरिकी कंपनी वॉलमार्ट ने देसी ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट में 77 फीसद इक्विटी हिस्सेदारी खरीदकर इसका अधिग्रहण कर लिया है। वॉलमार्ट ने 16 अरब डॉलर (करीब 1.05 लाख करोड़ रुपये) में फ्लिपकार्ट को खरीदने के बाद दो अरब डलर (करीब 13400 करोड़ रुपये) अतिरिक्त निवेश की भी योजना बनाई है। यह वॉलमार्ट का भी सबसे बड़ा अधिग्रहण है। इतना बड़ा अध्रिग्रहण भारत में ई-कॉमर्स के क्षेत्र में शानदार संभावनाओं को देखते हुए किया है।
(ये लेखक के निजी विचार है)

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.