जेट को बचाने आगे आई शिवसेना

Samachar Jagat | Friday, 10 May 2019 03:52:51 PM
Shiv Sena gets ahead of saving jet

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

जेट एयरवेज को संकट से उबारने के लिए शिवसेना की श्रमिक इकाई कामगार सेना ने कड़ी चेतावनी दी है कि यदि जेट एयरवेज को नहीं बचाया गया तो 10 मई के बाद मुंबई के दोनों एयरपोर्ट बंद कर दिए जाएंगे। इसके बाद आंदोलन की आगे की दिशा तय की जाएगी। कामगार सेना का कहना है कि यदि निर्णय जेट को बचाने के लिए होगा तो हम शांत बैठेंगे, लेकिन यदि निर्णय जेट के खिलाफ हुआ तो हम मुंबई के दोनों एयरपोर्ट से एक भी विमान नहीं उड़ने देंगे। भारतीय कामगार सेना ने 10 मई तक समुचित निर्णय करने का यह अल्टीमेंटम दिया है। शिवसेना एनडीए का महत्वपूर्ण घटक है और इसीलिए केंद्र को यह चेतावनी गंभीरता से लेनी होगी। चुनाव की व्यस्तता के चलते जेट कर्मियों की समस्या को नजर अंदाज करने में कोई तुक नहीं है। भारतीय कामगार सेना का कहना है कि जेट एयरवेट के 22 हजार कर्मचारियों की नौकरी छिन गई है, जबकि भारी घाटे के बावजूद एयर इंडिया को लाड़-प्यार से संभालने वाली केंद्र सरकार ने जेट एयरवेज को संकट से उबारने के लिए कुछ नहीं किया। 


जेट के चालक दल और ग्राउंड स्टाफ को भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है और अन्य कंपनियां भी उन्हें बहुत कम वेतन ऑफर का रही है तथा वहां भी सभी का समायोजन नहीं हो सकता। कर्मचारी अपने बच्चों की फीस तथा ईएमआई चुकाने की स्थिति में नहीं रहे। परिवार का रोजमर्रा का खर्च चलाना भी उनके लिए दुश्वार हो गया है। नए रोजगार के अवसर देना तो दूर, सरकार डूबती हुई कंपनियों को भी बचा नहीं पा रही है। 

जेट एयरवेट के मामले में तो उसने पूरी तरह बेरुखी दिखाई है। ऐसी विपरीत स्थिति में शिवसेना की श्रमिक इकाई जेट एयरवेज को बचाने के लिए आगे आई है। जेट एयरवेट कर्मचारियों के मुद्दे को राष्ट्रवादी कांग्रेस के अध्यक्ष शरद पवार ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है। उन्होंने कहा है कि जेट एयरवेज के 22 हजार कर्मचारियों के सामने रोजगार का संकट आ खड़ा हुआ है और वे भारी दिक्कतें झेल रहे हैं। पवार ने इस संदर्भ में प्रधानमंत्री मोदी से जल्द से जल्द हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया है। देखना होगा कि इस पर केंद्र का रुख क्या रहता है।

loading...


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
loading...


Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.