मानहानि मामले में जमानत के बाद मुख्यमंत्री, उपमुख्यमंत्री को पद पर रहने का नैतिक अधिकार नहीं : भाजपा

Samachar Jagat | Wednesday, 17 Jul 2019 12:09:13 PM
After the bail in defamation case, Deputy Chief Minister has no moral right to stay in office: BJP

नई दिल्ली। दिल्ली भाजपा प्रमुख मनोज तिवारी ने कहा कि मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आपराधिक मानहानि मामले में जमानत मिलने के बाद अपने पदों पर बने रहने का नैतिक अधिकार खो दिया है। तिवारी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मुख्यमंत्री सहित आम आदमी पार्टी के नेता ‘‘झूठ पर झूठ’’ के सहारे अपनी राजनीतिक यात्रा जारी रखे हुए हैं।

दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता द्वारा दायर आपराधिक मानहानि के मामले में यहाँ की एक अदालत ने केजरीवाल और सिसोदिया को जमानत दे दी। गुप्ता ने दायर मामले में कहा था कि केजरीवाल और सिसोदिया ने मुख्यमंत्री की हत्या की कथित साजिश में उनका जिक्र कर उनकी छवि ‘‘खराब’’ की है।

केजरीवाल को मानहानि के एक अन्य मामले में भी जमानत मिल गई। यह मामला उनके इस आरोप से जुड़ा है कि भाजपा ने खासकर पूर्वांचली, बनिया और मुस्लिम समुदाय सहित मतदाता सूची से 30 लाख लोगों के नाम कटवा दिए।

तिवारी ने कहा, ‘‘वे जमानत लेते रहते हैं और अपने ‘झूठ पर झूठ’ के लिए माफी मांगते रहते हैं। वे अपने संवैधानिक पदों पर बने रहने का नैतिक अधिकार खो चुके हैं।’’ गुप्ता ने कहा कि दिल्ली के लोग केजरीवाल और उनकी पार्टी को विदाई देने के लिए तैयार हैं क्योंकि वे ‘‘झूठ पर निर्भर’’ हैं।-(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.