उच्च जोखिम वाले रोगियों की पहचान के लिए लीवर जांच जरूरी: नायडू

Samachar Jagat | Saturday, 13 Jul 2019 01:39:37 PM
Need to check lever for high risk patients: Naidu

नई दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने समय-समय पर लीवर की जांच कराने के महत्व पर बल देते हुए कहा है कि इससे उच्च जोखिम वाले रोगियों की पहचान और रोग की रोकथाम के उपाय किए जा सकेंगे। 

Rawat Public School

नायडू उपराष्ट्रपति भवन में दो दिवसीय चिकित्सा शिविर के उद्घाटन अवसर पर बोल रहे थे। शिविर का आयोजन उपराष्ट्रपति के सचिवालय ने यकृत और पित्त विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली के सहयोग से सभी कर्मियों, दिल्ली पुलिस, भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के सुरक्षाकर्मियों तथा उपराष्ट्रपति के आवास पर कार्य कर रहे लोगों के लिए किया था। उन्होंने कहा कि लीवर अनेक बीमारियों का संकेत देता है। इसलिए लीवर की स्थिति जानने के लिए समय-समय पर इसकी जांच कराने की आवश्यकता है। 

शिविर में जाने - माने हेपैटोलॉजिस्ट तथा यकृत और पित्त विज्ञान संस्थान के निदेशक प्रोफेसर डी. शिव कुमार सरीन के नेतृत्व में लोगों के लीवर की जांच की गयी। फाइब्रो स्कैन से की गयी जांच में लीवर की कठोरता का पता लगाया गया। इसके अतिरिक्त हेपेटाइटिस्ट-बी तथा हेपेटाइटिस्ट-सी के लिए खून की जांच की गई। 

शिविर में मोबाइल लीवर जांच वैन थी जिसमें अब तक राजधानी के 16,000 लोगों के लीवर की जांच की जा चुकी है। उपराष्ट्रपति और उनकी पत्नी श्रीमती उषा नायडू ने भी शिविर में जांच कराई। -(एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.