जानिए! एक गर्भ से कैसे उत्पन्न हुए 100 कौरव

Samachar Jagat | Tuesday, 22 Nov 2016 02:25:04 PM
जानिए! एक गर्भ से कैसे उत्पन्न हुए 100 कौरव

महाभारत के युद्ध में कौरवों का बहुत बड़ा हाथ था, कौरवों के अधर्म को रोकने और उन्हें दंड देने के लिए ही पांडवों द्वारा ये युद्ध किया गया। कौरवों के जन्म के पीछे एक बहुत ही रौचक कथा जुड़ी हुई है। ये कथा इस प्रकार है...

एक बार महर्षि वेदव्यास हस्तिनापुर आए। गांधारी ने उनकी बहुत सेवा की। जिससे प्रसन्न होकर उन्होंने गांधारी को वरदान मांगने को कहा। गांधारी ने अपने पति के समान ही बलवान सौ पुत्र होने का वर मांगा। समय पर गांधारी को गर्भ ठहरा और वह दो वर्ष तक पेट में ही रहा। इससे गांधारी घबरा गई और उसने अपना गर्भ गिरा दिया। उसके पेट से लोहे के समान एक मांस पिण्ड निकला।

इन मंदिरों में होती है महाभारत के खलनायकों की पूजा

महर्षि वेदव्यास ने अपनी योगदृष्टि से यह सब देख लिया और वे तुरंत गांधारी के पास आए। तब गांधारी ने उन्हें वह मांस पिण्ड दिखाया। महर्षि वेदव्यास ने गांधारी से कहा कि तुम जल्दी से सौ कुण्ड बनवाकर उन्हें घी से भर दो और सुरक्षित स्थान में उनकी रक्षा का प्रबंध कर दो तथा इस मांस पिण्ड पर जल छिड़को। जल छिड़कने पर उस मांस पिण्ड के एक सौ एक टुकड़े हो गए।

कौन था ययाति और क्यों दिया उसने अपने ही पुत्रों को श्राप

व्यासजी ने कहा कि मांस पिण्डों के इन एक सौ एक टुकड़ों को घी से भरे कुंडों में डाल दो। अब इन कुंडों को दो साल बाद ही खोलना। इतना कहकर महर्षि वेदव्यास तपस्या करने हिमालय पर चले गए। समय आने पर उन्हीं मांस पिण्डों से पहले दुर्योधन और बाद में गांधारी के 99 पुत्र तथा एक कन्या उत्पन्न हुई।

इन ख़बरों पर भी डालें एक नजर :-

कितना जानते है आप स्मार्टफोन में डाली जानें वाली सिम के बारे में?

सावधान! सेंकड हैंड स्मार्टफोन लेनें जा रहे है तो रुकिए...  

बडें काम के है गूगल के ये ऐप्स

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.