यहाँ गड़ा है भगवान परशुराम का फरसा, लोहार ने निकालने का किया प्रयास तो हो गई मौत

Samachar Jagat | Monday, 20 Mar 2017 12:24:01 PM
यहाँ गड़ा है भगवान परशुराम का फरसा, लोहार ने निकालने का किया प्रयास तो हो गई मौत

भगवान परशुराम का जिक्र रामायण में मिलता है, उन्होंने अहंकारी और धृष्ट हैहय वंशी क्षत्रियों का पृथ्वी से 21 बार संहार किया था। परशुराम धनुर्विद्या के ज्ञाता थे और उन्हें अपना फरसा बहुत प्रिय था। झारखंड में रांची से करीब 150 किमी की दूरी पर घने जंगलों में स्थित टांगीनाथ धाम में भगवान परशुराम का फरसा गड़ा हुआ है। नक्सल प्रभावित इस इलाके में अलग ही भाषा चलती है और यहां की स्थानीय भाषा में फरसा को टांगी कहा जाता है, इसलिए इस जगह का नाम टांगीनाथ धाम हो गया। 

शिव की कृपा प्राप्त करने के लिए सोमवार की रात को करें ये उपाय 

खबरों के अनुसार इस जगह भगवान परशुराम का फरसा जमीन में गड़ा हुआ है और यहां पर परशुराम के चरण चिह्न भी मिले हैं। ये फरसा यहां कैसे आया इसके बारे में एक लोककथा प्रचलित है जो इस प्रकार है...

रामायण में जब सीता स्वयंवर में भगवान श्रीराम ने शिव का धनुष तोडा़ तब परशुराम को बहुत क्रोध आया और वे स्वयंवर स्थल पर पहुंचे। उस दौरान लक्ष्मण से परशुराम का विवाद हुआ। बाद में जब उन्हें ये ज्ञात हुआ की श्रीराम परमपिता परमेश्वर हैं तो उन्हें अपनी इस गलती के लिए पछतावा हुआ और वे जंगलों में चले गए।

वास्तुदोष से बचने के लिए घर के मेन गेट पर लटकाएं तांबे के सिक्के

दुखी होकर उन्होंने अपने फरसे को वहीं जंगल में जमीन में गाढ़ दिया और उस स्थान पर भगवान शिव की स्थापना की। उसी जगह पर आज टांगीनाथ धाम स्थित है और यहां के स्थानीय लोगों के अनुसार परशुरामजी का वही फरसा आज भी यहां गड़ा हुआ है, एक बार इस इलाके में लोहार आकर रहने लगे थे।

काम के दौरान उन्हें लोहे की जरूरत हुई तो उन्होंने परशुराम का यह फरसा काटने की कोशिश की। फरसा तो नहीं कटा बल्कि लोहार के परिवार वालों की मौत होने लगी और घबराकर उन्होंने ये स्थान छोड़ दिया। इसी कारण आज भी यहां कोई इस फरसे से हाथ नही लगाता है।

(Source - Google)

इन ख़बरों पर भी डालें एक नजर :-

चांदी से जुड़े ये उपाय चमका देंगे आपकी किस्मत

कहीं आपके अवगुण तो नहीं बन रहे आपकी असफलता का कारण

ईशान कोण के लिए कुछ खास वास्तु टिप्स

 

 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.