एशियाई कबड्डी टीमें नहीं आयीं, मैच बना तमाशा

Samachar Jagat | Sunday, 16 Sep 2018 10:50:11 AM
Asian Kabaddi teams do not come, match-making tamasha

नई दिल्ली। 18वें एशियाई खेलों में कांस्य और रजत पदक जीतने वाली भारतीय पुरुष और महिला कबड्डी टीमें दिल्ली उच्च न्यायालय के निर्देश के बावजूद इंदिरा गांधी स्टेडियम में शनिवार को मैच खेलने नहीं पहुंचीं जिससे पूरा प्रकरण ही एक तमाशा बन कर रह गया। एशियाई खेलों में उतरने वाली टीम और इन टीमों में न चुने गए खिलाड़ियों के बीच यह मुकाबला होना था लेकिन एशियाई खेलों की कबड्डी टीमें इस मुकाबले के लिए नहीं पहुंची। दिल्ली उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश एसपी गर्ग को इस मैच के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किया गया था और उनके साथ खेल मंत्रालय के एक अधिकारी भी थे। 

गेल और मैकुलम जैसे तूफानी बल्लेबाज दिखाएंगे अपना जलवा, अगले महीने शुरू होगा ये T-20 टूर्नामेंट 

दरअसल, एशियाई खेलों के लिए भारतीय कबड्डी टीमों के रवाना होने से पहले पूर्व कबड्डी खिलाड़ी महिपाल सिंह ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था और उन्होंने भारतीय एमेच्योर कबड्डी महासंघ (एएफकेआई) पर घूस लेकर खिलाड़ियों के चयन का आरोप लगाया था। इसके बाद अदालत ने निर्णय लिया था कि खेलों के समापन के बाद एक मैच का आयोजन किया जाएगा ताकि यह पता चल पाए कि खिलाड़ियों के चयन के मामले में महिपाल के आरोप सही हैं या नहीं।  

Asia Cup 2018: इस बल्लेबाज के दम पर बांग्लादेश ने श्रीलंका को किया पराजित  

स्टेडियम में महिपाल और एएफकेआई के अधिकारी भी मौजूद थे लेकिन खिलाड़ी नहीं पहुंचे और मैच विपक्षी धड़े के खिलाड़ियों के बीच खेला गया। इस मैच के लिए भारी संख्या में मीडियाकर्मी भी पहुंचे लेकिन उन्हें निराशा हाथ लगी। 

मैरीकाम, ज्योति ने स्वर्ण और सरिता ने पोलैंड मुक्केबाजी टूर्नामेंट में कांस्य पदक जीता 

न्याधीश एसपी गर्ग ने विपक्षी धड़े के खिलाड़ियों के बीच खेले गए दोस्ताना मैचों का लुत्फ तो उठाया पर मीडिया के बार बार पूछे जाने के बावजूद उन्होंने सिर्फ इतना ही कहा कि वह मैच देखने आए थे और मैच देख रहे हैं। जब उनसे पूछा गया कि वह क्या एक्शन लेने जा रहे हैं तो उन्होंने इतना ही बताया कि अपनी रिपोर्ट कोर्ट को सौंपेंगे। 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.