ऑस्ट्रेलिया को 175 रन की बढ़त, मेजबान का पलड़ा भारी

Samachar Jagat | Sunday, 16 Dec 2018 04:26:27 PM
Australia take 175 runs lead

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

पर्थ। ऑस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 43 रन की महत्वपूर्ण बढ़त हासिल करने के बाद दूसरी पारी में चार विकेट पर 132 रन के साथ अपनी कुल बढ़त को 175 रन तक पहुंचाकर भारत के खिलाफ दूसरे क्रिकेट टेस्ट के तीसरे दिन अपना पलड़ा कुछ भारी रखा। दूसरी पारी में ऑस्ट्रेलिया का कोई बल्लेबाज अब तक बड़ा स्कोर नहीं बना पाया है लेकिन मेजबान टीम उस्मान ख्वाजा (नाबाद 41) की अगुआई में पर्थ के नए स्टेडियम की मुश्किल पिच पर अपनी कुल बढ़त को 175 रन तक पहुंचाने में सफल रही।


दिन का खेल खत्म होने पर कप्तान टिम पेन आठ रन बनाकर ख्वाजा का साथ निभा रहे थे। ख्वाजा ने 102 गेंद की अपनी पारी में अब तक पांच चौके मारे हैं। इससे पहले सलामी बल्लेबाज आरोन फिच 25 रन बनाने के बाद अंगुली में चोट लगने के कारण रिटायर्ड हर्ट हुए। भारत की ओर से दूसरी पारी में मोहम्मद शमी (23 रन पर दो विकेट) अब तक सबसे सफल गेंदबाज रहे हैं जबकि जसप्रीत बुमराह (25 रन पर एक विकेट) और इशांत शर्मा (33 रन पर एक विकेट) ने एक-एक विकेट चटकाया।

दूसरी पारी में फिच और मार्कस हैरिस (2०) की मेजबान टीम की सलामी जोड़ी को भारतीय तेज गेंदबाजों ने काफी परेशान किया। हैरिस को पांचवें ओवर में जीवनदान मिला जब इशांत की गेंद पर पहली स्लिप में चेतेश्वर पुजारा ने उनका कैच टपका दिया। फिच 25 रन बनाने के बाद चाय से ठीक पहले शमी की गेंद पर अंगुली में चोट लगा बैठे और काफी दर्द के बीच वापस लौटे जिससे चाय का ब्रेक कुछ समय पहले लेना पड़ा।

वह इसके बाद रिटायर्ड हर्ट हो गए और दोबारा बल्लेबाजी करने नहीं उतरे। चाय के बाद हैरिस का साथ देने ख्वाजा उतरे। उमेश यादव प्रभाव नहीं छोड़ पाए। हैरिस ने उन पर चौका जड़ा जबकि ख्वाजा ने भी लगातार दो चौकों के साथ टीम का स्कोर 50 रन के पार पहुंचाया।

ख्वाजा ने शमी पर दो रन के साथ टीम की बढ़त को 100 रन के पार पहुंचाया। हैरिस हालांकि इसके बाद बुमराह की गेंद पर चूक कर बैठे। इस सलामी बल्लेबाज ने बुमराह की अंदर आती गेंद को छोड़ दिया जिसने उनके आफ स्टंप की बेल्स को उड़ा दिया।

शान मार्श को शुरुआत से ही परेशानी का सामना करना पड़ा और वह पांच रन बनाने के बाद शमी की गेंद पर विकेटकीपर ऋषभ पंत को कैच दे बैठे। इशांत ने अपने नए स्पैल की पहली ही गेंद पर पीटर हैंड्सकोंब (13) को पगबाधा करके आस्ट्रेलिया का स्कोर तीन विकेट पर 85 रन किया।

ट्रेविस हेड और ख्वाजा ने इसके बाद पारी को संभाला। दोनों ने 30वें ओवर में टीम का स्कोर 100 रन के पार पहुंचाया और इस दौरान भाग्य ने भी उनका साथ दिया। हेड हालांकि 19 रन बनाने के बाद शमी की उछाल लेती गेंद पर तेज प्रहार करने की कोशिश में थर्ड मैन पर इशांत को कैच दे बैठे।

ख्वाजा भी 37 रन के स्कोर पर भाग्यशाली रहे जब हनुमा विहारी की गेंद पर पहली स्लिप में अजिक्य रहाणे उनका कैच लपकने में नाकाम रहे। इससे पहले कप्तान विराट कोहली (123) के 25वें टेस्ट शतक के बावजूद निचले क्रम के एक बार फिर ध्वस्त होने के कारण भारत पहली पारी में 283 रन ही बना सका। 

नाथन लियोन (67 रन पर पांच विकेट) ने टेस्ट क्रिकेट में 14वीं बार पारी में पांच या इससे अधिक विकेट चटकाए जिससे भारत ने अंतिम पांच विकेट सिर्फ 32 रन पर गंवा दिए। आस्ट्रेलिया ने पहली पारी में 326 रन बनाए थे। लंच के बाद भारतीय पारी को सिमटने में अधिक देर नहीं लगी।

कोहली छठे विकेट के तौर पर 251 रन पर पवेलियन लौटे जिसके अगले ओवर में शमी (00) भी लियोन की पहली ही गेंद पर विकेटकीपर पेन को कैच दे बैठे। लंच के बाद दूसरे ही ओवर में इशांत (01) ने लियोन को वापस कैच थमाया। पंत (36) ने तेजी से रन बटोरते हुए उमेश (नाबाद 04) के साथ नौवें विकेट के लिए 25 रन जुटाए। पंत लियोन का चौथा शिकार बने।

इस आफ स्पिनर ने बुमराह (04) को स्लिप में कैच कराके भारतीय पारी का अंत किया। इसके साथ ही लियोन ने श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन की बराबरी कर ली जिन्होंने भारत के खिलाफ सात बार पारी में पांच या इससे अधिक विकेट चटकाए। इससे पहले भारतीय कप्तान ने 257 गेंद में 13 चौकों और एक छक्के की मदद से 123 रन की पारी खेली जो 1992 में सचिन तेंदुलकर (वाका मैदान पर 114 रन) के बाद पर्थ में किसी भारतीय बल्लेबाज का पहला शतक है।

टीम इंडिया ने दिन की शुरुआत तीन विकेट पर 172 रन से की। भारत की शुरुआत बेहद खराब रही और उसने दिन की चौथी गेंद पर ही रहाणे (51) का विकेट गंवा दिया जिन्होंने लियोन की गेंद पर पेन को कैच थमाया। भारत ने तब तक आज सिर्फ एक रन जोड़ा था।

इसके साथ ही कोहली के साथ रहाणे की 91 रन की साझेदारी का अंत हुआ। हनुमा विहारी (20) ने कोहली के साथ पांचवें विकेट के लिए 50 रन जोड़े। विहारी एक छोर पर दबाव झेलने में सफल रहे जबकि दूसरे छोर पर कोहली ने शाट खेलना जारी रखा। कोहली ने 80वें ओवर में भारत का स्कोर 200 रन के पार पहुंचाया।

उन्होंने 214 गेंद में अपने करियर का 25वां और आस्ट्रेलियाई सरजमीं पर छठा टेस्ट शतक पूरा किया। वह टेस्ट इतिहास में 25 टेस्ट शतक (127 पारी) सबसे कम पारियों में जड़ने वालों की सूची में सर डोनाल्ड ब्रैडमैन के बाद दूसरे नंबर पर हैं। ब्रैडमैन ने सिर्फ 68 पारियों में यह उपलब्धि हासिल की थी।

कोहली का भारतीय कप्तान के रूप में सभी प्रारूपों में यह 34वां शतक है और वह सिर्फ रिकी पोंटिग से पीछे हैं जिन्होंने आस्ट्रेलियाई कप्तान के रूप में 41 शतक जड़े हैं। आस्ट्रेलिया ने हालांकि दूसरी नई गेंद का अच्छा इस्तेमाल किया। जोश हेजलवुड (66 रन पर दो विकेट) ने 86वें ओवर में विहारी को विकेट के पीछे कैच कराया। पंत इसके बाद कप्तान कोहली का साथ देने उतरे और दोनों ने टीम का स्कोर 250 रन के पार पहुंचाया। 

कोहली लंच से पहले पैट कमिस (60 रन पर एक विकेट) की गेंद पर दूसरी स्लिप में हैंड्सकोंब को कैच दे बैठे। यह कैच विवादास्पद था क्योंकि गेंद जमीन के काफी करीब थी। मैदानी अंपायर ने कोहली को आउट दिया था और टीवी रीप्ले में अंपायर के फैसले को पलटने के लिए स्पष्ट साक्ष्य नहीं मिला।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.