भारतीय कोच होने से अब संवाद की बाधा खत्म हो गई: सरदार

Samachar Jagat | Saturday, 11 Aug 2018 12:34:38 PM
Now communication barrier has ended due to Indian coach: Sardar

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। भारतीय हॉकी टीम के वरिष्ठ खिलाडिय़ों सरदार सिंह और मनप्रीत सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय टीम का मुख्य कोच भारतीय होने से अब संवाद को लेकर कोई बाधा पैदा नहीं होती है और रणनीतिक तौर पर हरेंद्र सिंह किसी विदेशी कोच से कम नहीं हैं।

हरेंद्र को मई में हाकी टीम का मुख्य कोच नियुक्त किया गया था। उनके रहते हुए भारतीय टीम गत माह चैंपियन्स ट्राफी में लगातार दूसरे वर्ष उप विजेता रही थी। सरदार ने पीटीआई से कहा कि मुझे अब भी याद है कि हरेंद्र पाजी ने 15-16 साल पहले मुझे राष्ट्रीय शिविर में बुलाया था।

इंग्लैंड के गेंदबाजों के आगे भारतीय टीम 107 रन पर ढेर

हम लंबे समय से एक दूसरे को जानते हैं। जब वह 2009 में जोस ब्रासा के साथ सहायक कोच थे तब भी मैं उनके मातहत खेला था। उन्होंने कहा कि एक भारतीय कोच के साथ काम करना अलग तरह का अहसास है। हम उनके साथ कुछ भी चर्चा कर सकते हैं।

वह हमें खुलकर सलाह देते हैं और जानते हैं कि सीनियर खिलाड़ी होने के कारण हम अपना खेल पूरी तरह से नहीं बदल सकते हैं। अभ्यास के दौरान बात समझाने के लिए कोच के पास समय होता है लेकिन विदेशी कोच की 2 क्वार्टर के बीच दो मिनट के ब्रेक के दौरान सलाह को समझना मुश्किल होता है।

यहां पर हरेंद्र ने बड़ा अंतर पैदा किया। सरदार ने कहा कि अगर आप देखोगे तो उन्होंने महिला टीम और जूनियर टीम के साथ भी अच्छे परिणाम दिये हैं। जूनियर टीम ने विश्व कप उनके रहते हुए ही जीता। उन्होंने सर्वश्रेष्ठ प्रशिक्षकों के साथ काम किया है।

उनके आने से सबसे बड़ा सकारात्मक पहलू यह रहा कि अब हिन्दी में बातचीत करते हैं। उन्होंने कहा कि विदेशी कोच के साथ अगर आप दो मिनट के ब्रेक के दौरान कोई एक प्वाइंट भूल जाओ तो यह खिलाडिय़ों के दिमाग में भ्रम पैदा कर सकता है। कोच बाहर से खेल का आकलन कर रहे होते हैं कि और वह अपनी भाषा में आपको सही तरह से समझा सकता है।

आपके पास समय कम होता है और इसलिए ऐसी भाषा जिसे सभी समझते हैं से काफी मदद मिली।सरदार के साथी मनप्रीत ने भी उनका समर्थन किया। मनप्रीत ने कहा कि  जब भी नया कोच आता है तो उसे यह सुनिश्चित करना होता है कि हम खेल की अपनी शैली नहीं बदलें।

राठौड़ ने एशियाई खेलों के दौरान खिलाडिय़ों और अधिकारियों से जिम्मेदार होने को कहा

हमारी ताकत आक्रमण और जवाबी हमला करना है। हरेंद्र पाजी जानते हैं कि कैसे एसवी सुनील और आकाशदीप जैसे तेजतर्रार फारवर्ड का कैसे उपयोग किया जाए। उन्होंने कहा कि वह बेहद सकारात्मक व्यक्ति हैं। वह कम समय में सही चीजें कहते हैं। उन्होंने बेहतरीन प्रशिक्षकों के साथ काम किया है लेकिन अब भी कहते हैं कि वह सीख रहे हैं। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.