अर्जुन पुरस्कार के लिए सिफारिश और नौकरी के आश्वासन ने दी सविता के कैरियर को संजीवनी

Samachar Jagat | Wednesday, 19 Sep 2018 11:42:14 AM
Recommendation for Arjuna Award and job assurance given Savita career Sanjivani

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। गत 9 वर्ष से नौकरी मिलने का इंतजार कर रही भारतीय महिला हॉकी टीम की गोलकीपर सविता पूनिया को उम्मीद है कि खेल मंत्री से मिले नौकरी के आश्वासन और अर्जुन पुरस्कार के लिए उनके नाम की सिफारिश से अब उनके कैरियर को नई संजीवनी मिल जाएगी।


ऑस्ट्रेलिया दौरे पर भारतीय टीम को मिलेगी ये बड़ी चुनौतियां, क्या कंगारुओं के सामने अपना जलवा दिखा पाएगी इंडिया?

अठाइस बरस की हरियाणा की इस स्टार गोलकीपर के परिवार ने कैरियर में हमेशा साथ दिया है लेकिन नौकरी नहीं होने और बढती उम्र के साथ रिश्तेदारों में शादी को लेकर कानाफूसी शुरू हो गई थी। सविता ने अर्जुन पुरस्कार के लिए उनके नाम की सिफारिश किये जाने के बाद 'भाषा’ से बातचीत में कहा कि  मेरे परिवार ने हमेशा मेरी हौसलाअफजाई की लेकिन लोग तो बातें करते ही हैं कि उम्र बढ़ रही है और शादी हो जानी चाहिए।

अब अर्जुन पुरस्कार के बाद तो मुझे लगता है कि चार-पांच साल कोई कुछ नहीं कहेगा। बेरोजगारी का कलंक झेल रही सविता ने यह भी बताया कि खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने एशियाई खेलों में रजत पदक जीतकर टीम के लौटने के बाद उन्हें व्यक्तिगत रूप से नौकरी दिलाने का आश्वासन दिया है।

गत 10 वर्ष से भारतीय सीनियर टीम के साथ खेल रही इस गोलकीपर ने कहा कि एशियाड से लौटने के बाद राठौड़ सर ने खुद एक समारोह में मिलने पर मुझे बुलाकर नौकरी का आश्वासन दिया है। मुझे उम्मीद है कि नौ साल का मेरा इंतजार अब खत्म हो जाएगा और मैं पूरा ध्यान खेल पर लगा सकूंगी।

उसने अर्जुन पुरस्कार को अपनी मां के लिये तोहफा बताते हुए कहा कि जब भी कोई पदक या पुरस्कार मिलता है तो मेरी मां का पहला सवाल होता है कि अब तो नौकरी पक्की है ना। वह पढ़ी लिखी नहीं है और उन्हें पुरस्कार की अहमियत नहीं पता लेकिन पापा ने उन्हें समझाया।

Asia Cup: धवन ने जमाया 14वां वनडे शतक, भारत के 222वें खिलाड़ी बने खलील

ये पदक और पुरस्कार मेरी तरफ से उन्हें तोहफा है। एशियाई खेलों के बाद भारतीय हॉकी टीम को एक महीने का ब्रेक मिला है और एक अक्टूबर से शिविर फिर शुरू होगा। सविता ने कहा कि एशियाड में हम भले ही स्वर्ण नहीं जीत पाए लेकिन रजत पदक ने टीम के हौसले बुलंद कर दिए हैं। सभी खिलाड़ियों की सोच सकारात्मक है और हमें यकीन है कि तोक्यो ओलंपिक के लिये क्वालीफाई करके हम पदक जीतेंगे।

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.