भारत की जीत का गवाह रहा है मोहाली ग्राउंड

Samachar Jagat | Thursday, 24 Nov 2016 01:43:30 PM
भारत की जीत का गवाह रहा है मोहाली ग्राउंड

मोहाली। विश्व की नंबर एक टेस्ट टीम इंडिया के लिए मोहाली उसका गढ़ रहा है जहां वह पिछले 22 वर्षों से अपराजित है। भारत और इंग्लैंड के बीच इस मैदान पर 26 नवम्बर से पांच मैचों की सीरीज का तीसरा टेस्ट खेला जाना है।

भारत सीरीज में विशाखापत्तनम में खेला गया दूसरा टेस्ट 246 रन के विशाल अंतर से जीतकर 1-0 की बढ़त बना चुका है और अब मोहाली के अपने गढ़ में उसका लक्ष्य इस बढ़त को दोगुना करना होगा। भारत ने इस मैदान पर अपने पिछले तीन टेस्टों में आस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका जैसी दिग्गज टीमों को हराया और अब उसके निशाने पर इंग्लैंड की टीम होगी।

मोहाली में टेस्ट क्रिकेट की शुरुआत दिसम्बर 1994 में हुई थी और तब वेस्टइंडीज ने भारत को 243 रन से हराया था। लेकिन उसके बाद से इस मैदान पर खेले गए 11 टेस्टों में भारत ने एक भी मैच नहीं गंवाया है। इन 11 टेस्टों में भारत ने छह टेस्ट जीते हैं और पांच टेस्ट ड्रॉ खेले हैं। 

भारत और इंग्लैंड का मोहाली में तीन बार मुकाबला हुआ है जिनमें भारत दो बार जीता है और एक टेस्ट ड्रॉ रहा है। भारत ने दिसम्बर 2001 में इंग्लैंड को दस विकेट से पराजित किया था। भारत ने फिर मार्च 2006 में इंग्लैंड को नौ विकेट से हराया जबकि दिसम्बर 2008 में दोनोंटीमों के बीच मैच ड्रॉ छूटा।

भारत इसके अलावा मोहाली में आस्ट्रेलिया को अक्टूबर 2008 में 320 रन से, अक्टूबर 2010 में एक विकेट से और मार्च 2013 में छह विकेट से हरा चुका है। भारत इस मैदान पर नवम्बर 2015 में खेले गये टेस्ट में दक्षिण अफ्रीका को 108 रन से शिकस्त दे चुका है। भारत के इस मैदान पर शानदार रिकॉर्ड को देखते हुए इंग्लैंड को सीरीज में वापसी की अपनी उम्मीदों के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ करना होगा।

मोहाली के मैदान पर भारत का सर्वश्रेष्ठ स्कोर 516 रन रहा है जो उसने मार्च 2005 में पाकिस्तान के खिलाफ बनाया है। इंग्लैंड के खिलाफ इस मैदान पर भारत का सर्वश्रेष्ठ स्कोर 469 रन रहा है जो उसने दिसम्बर 2001 में बनाया था। इस मैदान पर दो सर्वश्रेष्ठ निजी स्कोर शिखर धवन (187) और गौतम गंभीर (179) के नाम हैं लेकिन बाएं हाथ के दोनों ओपनर मौजूदा टीम से बाहर हैं।

मौजूदा भारतीय खिलाडिय़ों में ओपनर मुरली विजय मार्च 2013 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ 153 के स्कोर के साथ सर्वाधिक स्कोर बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में पांचवें स्थान पर हैं। चेतेश्वर पुजारा ने पिछले वर्ष दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ इसी मैदान पर 77 रन की पारी खेली थी।

भारतीय कप्तान विराट कोहली यहां नाबाद 67 रन बना चुके हैं। भारतीय बल्लेबाजों में विजय ने मोहाली में दो मैचों में कुल 301 रन, पुजारा ने 137 रन और विराट ने 131 रन बनाए हैं। विराट के पास मोहाली में इस कैलेंडर वर्ष में 1000 रन पूरे करने के साथ-साथ करियर में 4000 रन पूरे करने का भी मौका भी रहेगा।

मोहाली की पिच आमतौर पर तेज गेंदबाजों के अनुकूल मानी जाती है लेकिन यहां मौजूदा टीम के दो स्पिनरों रवींद्र जडेजा और रविचंद्रन अश्विन ने शानदार प्रदर्शन किया है। पिछले वर्ष दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लेफ्ट आर्म स्पिनर जडेजा ने पहली पारी में तीन और दूसरी पारी में पांच विकेट लिए थे जबकि ऑफ स्पिनर अश्विन ने पहली पारी में पांच और दूसरी पारी में तीन विकेट लिए थे।

लेग स्पिनर अमित मिश्रा भी पीछे नहीं रहे थे और उन्होंने भी उस मैच में पहली पारी में दो और दूसरी पारी में एक विकेट लिया था। मिश्रा हालांकि विशाखापत्तनम टेस्ट में अंतिम एकादश से बाहर रहे थे लेकिन यदि मोहाली की पिच की हालत गत वर्ष जैसी रहती है तो उन्हें वापस बुलाया जा सकता है। मिश्रा 16 सदस्यीय भारतीय टीम में शामिल हैं।

मोहाली के मैदान पर जडेजा ने दो टेस्टों में 14 विकेट, अश्विन ने 12 विकेट और मिश्रा ने 12 विकेट हासिल किए हैं। इस मैदान पर सर्वाधिक 36 विकेट लेने का रिकॉर्ड लेग स्पिनर अनिल कुंबले के नाम है जो मौजूदा भारतीय कोच हैं। ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह मोहाली में 24 विकेट हासिल कर चुके हैं। मोहाली में स्पिनरों के दबदबे को देखते हुए लगता है कि इंग्लैंड के बल्लेबाजों को एक बार फिर स्पिन जाल से जूझना पड़ेगा।
 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर
ज्योतिष

Copyright @ 2016 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.