इकाना की खूबसूरती को ग्रहण लगा रहा है स्टेडियम प्रशासन का रूखा व्यवहार

Samachar Jagat | Friday, 02 Nov 2018 03:43:05 PM
The stadium administration is embracing the beauty of Ikana

लखनऊ। भारत और वेस्टइंडीज के बीच छह नवम्बर को खेले जाने वाले दूसरे ट्वंटी-20 मैच के जरिये अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण करने जा रहे इकाना स्टेडियम की नायाब खूबसूरती को यहां के कर्मचारी अपने रूखे और अभद्र व्यवहार से ग्रहण लगा सकते हैं। अवधी शिल्पकला की बेजोड़ कारीगरी और अंतर्राष्ट्रीय सुविधाओं से भरपूर इकाना सजधज कर भारत वेस्टइंडीज मुकाबले की मेजबानी के लिये तैयार हो चुका है। घरेलू क्रिकेट के सफल आयोजन के बाद इकाना को पहली बार अंतर्राष्ट्रीय मैच की मेजबानी से नवाजा गया है।

टी20 में भारत को कड़ी टक्कर देने के लिए विंडित के खिलाड़ी बहा रहे पसीना

स्टेडियम प्रशासन और उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) इस बात से भलीभांति वाकिफ है कि उन्हें इस मैच के आयोजन से ही स्टेडियम को परीक्षा की कसौटी पर खरा उतराना होगा। इसके बावजूद स्टेडियम की देखभाल और मीडियाकर्मियों से समन्वय बनाने के लिये मौजूद स्टाफ अपने रूखे और अभद्र व्यवहार से आयोजन की सफलता पर सवालिया निशान लगा रहा है। मीडिया कोर्डिनेटर की जिम्मेदारी संभाल रहे गौरव भसह को दरअसल समाचार पत्रों और न्यूज एजेंसियों के बारे में ही ठीक से पता नही है।

गुरूवार शाम जब गौरव से स्टेडियम की तैयारियों के बारे में जानकारी करनी चाही तो उन्होंने झल्ला कर कहा, यहां दिन भर में सैकड़ों पत्रकार आते है अब किस किस को जवाब देता फिरूं। मेरे पास और भी कई काम है। इस बीच वहां मौजूद एक शख्स ने कहा, आपने अपना परिचय तो दे दिया मगर क्या आप जानते हो मैं कौन हूं। मै यहां का चीफ आफीसियेटिंग आफीसर यानी सीओओ हूं। संवाददाता ने जब उनसे नाम जानना चाहा तो वह भी झल्ला कर अंदर चले गये। इस बीच बाहर खडे एक अन्य अधिकारी ने अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते हुये अपने मातहतों को संवाददाता को गेट से बाहर करने को कहा।

बॉली टेंपरिंग को लेकर दक्षिण अफ्रीका के कप्तान डु प्लेसिस ने बोली दिल को छू लेने वाली बात

हालांकि देर शाम गौरव ने संवाददाता से अपने कृत्य पर शर्मिंदगी जताते हुये फोन पर माफी मांगी। इस बीच दीपावली से ठीक एक रोज पहले यहां होने वाले मैच में चौके छक्कों की आतिशबाजी का नजारा देखने के लिये नवाब नगरी के खेल प्रेमी बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं। इस मैदान पर पिछले सत्र में दलीप ट्रॉफी और रणजी ट्रॉफी का सफल आयोजन कराया जा चुका है जिसके बाद स्टेडियम को पहले अंतर्राष्ट्रीय मुकाबले की जिम्मेदारी दी गयी है। हालांकि लखनवी तहजीब की मिसाल का स्टेडियम में मौजूद कर्मचारियों का मखौल उड़ाना भविष्य में बाधा खड़ी कर सकता है। - एजेंसी



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.