यह है भारतीय बॉलर को चैलेंज करने वाला पाकिस्तानी बल्लेबाज, शर्मिंदा होकर लौटा था पैवेलियन

Samachar Jagat | Monday, 02 Sep 2019 12:52:35 PM
venkatesh prasad and aamir sohail challenge match

स्पोर्ट डेस्क। चाहे राजनीति हो या खेल का मैदान भारत ओर पाकिस्तान को हर जगह एक चिर प्रतिद्विंद्वी के तौर पर देखा जाता है।  अगर भारत पाकिस्तान का क्रिकेट मैच हो तो और भी सोने पे सुहागा है। इस क्रिकेट मैच के लिए लोग पहले से इंतेजार करते हैं ओर सब काम काज छोडक़र मैच देखते हैं।


loading...

इन मैचों में कई ऐसे रोमांचक मोड़ भी आते हैं जो हमेशा के लिए यादगार बन जाते हैं। दोनो तरफ के खिलाडिय़ों के बीच तीखी बहस और गर्मागर्मी भी कई बार देखी जाती है। ऐसा ही एक किस्सा हम आपको आज बताने जा रहे हैं। यह किस्सा क्रिकेट इतिहास का एक अमूल्य क्षण बन गया और विशेषतौर पर भारतीय क्रिकेट प्रेमियों के लिए गौरवान्वित करने वाला क्षण के तौर पर याद किया जाता रहा है। हम बात कर रहे हैं टीम इंडिया के तेज गेंदबाज रहे बापू कृष्णराव वेंकटेश प्रसाद की।

1996 के क्रिकेट विश्व कप में उनका एक बेहतरीन पल आज भी वीडियो के रूप में देखा जा सकता है। भारत पाक क्रिकेट मैच के दौरान पाकिस्तान के आमिर सोहेल ने प्रसाद की उनकी गेंद पर चौका मारा, चौका मारकर अति आत्मविश्वास में आ चुके सोहेल ने उसके बाद प्रसाद की तरफ इशारा करते हुए अगले शॉट मारने की दिशा बताई। लेकिन, प्रसाद खेलते समय बहुत ही संयम बरतते थे।  बिना किसी प्रकार का उत्तर दिये वह अगली गेंद डालने की तेयारी में जुट गए।

लेकिन, शायद मन ही मन उन्होंने ठान ली थी कि इस का जवाब वह अपनी गेंद से देंगे। प्रसाद ने गेंद अगली फेंकी, गेंद सोहेल के बल्ले ओर टांगों के बीच से निकलकर स्टम्प को उड़ाती हुई निकल गई। गेंद पर सोहले के स्टम्प जड़ से उखड़ गये ओर सोहेल बोल्ड हो गए। इसके बाद तो पूरे मैदान में पाकिस्तानी फैंस के बीच सन्नाटा ओर भारतीय फैंस के बीच शोर हो गया। सोहेल की हालत तो ऐसी थी कि काटो तो खून नहीं। और वह शर्मिंदा होकर सिर झुकाए पैवेलियन की और चल दिये। यह मैच आज भी वेंकटेश प्रसाद के ऐतिहासिक मैचों में से एक है।

वेंकटेश का जन्म कर्नाटक के बेंगलोर में 5 अगस्त 1969 को हुआ था। वेंकटेश ने भारतीय टीम की तरफ से टेस्ट और वनडे खेले। उन्होंने 1994 में अपनी शुरुआत की। मुख्य रूप से एक दाएं हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज, उस वक्त प्रसाद को जवागल श्रीनाथ की गेंदबाजी जुगलबंदी काफी मशहूर थी।

वह इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए गेंदबाजी कोच हैं, जिन्होंने पूर्व में 2007 से 2009 तक भारतीय क्रिकेट टीम के लिए समान भूमिका निभाई थी।

प्रसाद ने 33 टेस्ट में 35 की औसत से 96 विकेट लिए, और 161 वनडे मैचों में 32.30 की औसत से 196 विकेट लिए। 1999 में टेस्ट श्रृंखला में पाकिस्तान के खिलाफ हासिल 33 में से 6 के लिए उनकी सर्वश्रेष्ठ टेस्ट गेंदबाजी का सर्वश्रेष्ठ आंकड़ा माना जाता है।  इन आंकड़ों में गेंदबाजी का एक जादू शामिल था जिसमें उन्होंने 0 रन देकर 5 विकेट लिए थे। उल्लेखनीय रूप से, उन्होंने एक बार दिसंबर 1996 में दक्षिण अफ्रीका के डरबन में एक टेस्ट मैच में 10 विकेट लिए थे। यह टेस्ट क्रिकेट में उनका एकमात्र दस विकेट रहा। प्रसाद ने इंग्लैंड में 1996 में, श्रीलंका में, 2001 में, और वेस्ट इंडीज में, 1997 में पांच विकेट लिए थे। 1996/97 सीजऩ में, उन्होंने 15 टेस्ट में 55 और 30 एकदिवसीय मैचों में 48 विकेट लिए थे। इस अवधि के लिए, उन्हें सीईएटी इंटरनेशनल क्रिकेटर ऑफ द ईयर नामित किया गया था। प्रसाद ने अपना अंतिम टेस्ट मैच 2001 में श्रीलंका में खेला था।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!




Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.