भारतीय कप्तान विराट कोहली ने पृथ्वी शॉ को लेकर कही ये बड़ी बात!

Samachar Jagat | Thursday, 11 Oct 2018 02:02:14 PM
Virat kohli said do not compare the Prithvi, let it emerge as a cricketer

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

हैदराबाद। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने गुरुवार को युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ की किसी अन्य से तुलना नहीं करने और उन्हें एक क्रिकेटर के रूप में विकसित होने के लिए पर्याप्त स्थान देने की अपील की। पृथ्वी शॉ ने वेस्टइंडीज के खिलाफ राजकोट में अपने पदार्पण मैच में ही 134 रन बनाए जिसके बाद उनकी सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग से तुलना की जाने लगी थी। वेस्टइंडीज के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच की पूर्व संध्या पर कोहली ने संवाददाता सम्मेलन में कहा है कि मुझे नहीं लगता कि उसको लेकर अभी किसी फैसले पर पहुंच जाना चाहिए। आपको इस युवा खिलाड़ी अपनी क्षमता के अनुसार आगे बढऩे के लिए पर्याप्त स्थान देना चाहिए।


ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज स्पिनर शेन वार्न ने सचिन तेंदुलकर के बारे में कही ये बड़ी बात! आपकों भी होगी हैरानी

वह बेहद प्रतिभाशाली है और जैसा हर किसी ने देखा कि वह कौशल से परिपूर्ण है। उन्होंने कहा, कि हम निश्चित तौर पर चाहते हैं कि उसने पहले मैच में जैसा प्रदर्शन किया उसकी पुनरावृत्ति करे। वह सीखने का इच्छुक है और तेजतर्रार है। वह परिस्थिति का अच्छी तरह से आकलन करता है। हम सभी उसके लिए खुश हैं। विराट कोहली ने सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर से भी सहमति जताई जिन्होंने बुधवार को कहा था कि लोगों को पृथ्वी की तुलना वीरेंद्र सहवाग से नहीं करनी चाहिए। कोहली ने कहा है कि हमें अभी उसकी तुलना किसी से नहीं करनी चाहिए।

पृथ्वी शॉ की सहवाग से तुलना पर गंभीर ने कहीं ये दिल को छू लेने वाली बात!

हमें उसे ऐसी स्थिति में नहीं रखना चाहिए जहां वह किसी तरह का दबाव महसूस करें। उसे हमें वह स्थान देना चाहिए जहां वह अपने खेल का लुत्फ उठाए और धीरे धीरे ऐसे खिलाड़ी के रूप में तैयार हो जैसा हम सभी चाहते हैं। आईपीएल, भारत ए के दौरों और अंडर-19 टूर्नामेंट के सीधे प्रसारण से युवा जल्द ही अपनी पहचान बना रहे हैं और कोहली ने स्वीकार किया कि अब वे दबाव सहने के लिए बेहतर तरीके से तैयार रहते हैं।

तेज गेंदबाज मोहम्मद अब्बास की घातक गेंदबाजी से पाकिस्तान जीत की और अग्रसर

उन्होंने कहा, कि निश्चित तौर यह एक कारण हो सकता है क्योंकि वे उस माहौल में खेल चुके होते हैं जिसमें की अंतरराष्ट्रीय मैच खेला जाता है। लेकिन देश की तरफ से खेलने का हमेशा दबाव होता है। जब आप सुबह यह कैप पहनते हो तो आप थोड़ा नर्वस रहते हो और मुझे लगता है कि हर कोई यह दबाव महसूस करता है। कोहली ने कहा कि लेकिन यह दबाव 10-15 साल पहले जैसा नहीं है जब आपको इस तरह की क्रिकेट खेलने का कोई अनुभव नहीं रहता था और अचानक ही आपको भारत की तरफ से टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करना होता था। 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.