स्मार्टफोन से निकलने वाली ब्लू लाइट छीन सकती है आपकी आंखों की रोशनी

Samachar Jagat | Saturday, 11 Aug 2018 03:49:34 PM
Blue light coming out of the smartphone can snatch your eyesight

इंटरनेट डेस्क। टेक्नोलॉजी के विकास ने भले ही हमारे सारे काम आसान कर दिए हैं। लेकिन बढ़ती तकनीकी हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक बनती जा रही है। आजकल के युवा स्मार्टफोन के आदी हो गए हैं। बड़े ही नहीं बच्चे भी पूरे दिन स्मार्टफोन को लेकर उसमें गेम खेलते रहते हैं। अगर आप भी दिन-रात फोन में लगे रहते है तो ध्यान दें यह आपकी आंखों की रोशनी छीन सकता है। डिजिटल डिवाइस किस तरह से धीरे-धीरे आपकी आंखों को घात पहुंचा रही है आपको पता भी नहीं चलेगा।

साड़ी स्टाइलिश है लेकिन कहीं आप भी तो नहीं करतीं ये गलतियां, अपनाएं ये टिप्स और दिखें खूबसूरत

हाल ही में एक रिसर्च में सामने आया है कि स्मार्टफोन से निकलने वाली रोशनी आपको अंधा बना सकती है। ब्लू लाइट हमारे रेटिना को नुकसान पहुंचाती है और देखने की क्षमता को कम करती है। स्मार्टफोन और अन्य डिजिटल डिवाइस से ब्लू करल की लाइट निकलती है जो आंखों की रोशनी पर बुरा प्रभाव डालती है। इससे मैक्यूलर डिजेनरेशन नाम की एक गंभीर बीमारी हो जाती है जिसका कोई इलाज नहीं है। ब्लू लाइट आंखों के फोटोरिसेप्टर सेल्स में जहरीले रासायनिक मॉलिक्यूल को ट्रिगर करती है।

कमर और घुटनों के दर्द को मिनटों में छू मंतर कर देगी ये छोटी सी चीज

अगर ब्लू लाइट रेटिना पर पड़ती है तो इससे फोटोरिसेप्टर सेल मर जाते हैं। दरअसल होता यह है कि ब्लू लाइट आंखों के रेटिना में मौजूद अहम मॉलिक्यूल्स को सेल किलर में तब्दील कर देती है। इसी से ही मैक्यूलर डिजेनरेशन बीमारी होती है। इस बीमारी में फोटोरिसेप्टर सेल्स मर जाते है। यह सेल्स हमें देखने में मदद करते हैं। अगर यह सेल ही नहीं रहेंगे तो हमें दिखेगा भी नहीं। यह बीमारी अक्सर 50 से 60 साल की उम्र के व्यक्तियों में होती है।

किचन में मौजूद इस छोटी सी काली मिर्च में छिपे है कई ब्यूटी सीक्रेट्स



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.