मायोपिया के भय से ऑनलाइन गेम की संख्या सीमित करेगा चीन

Samachar Jagat | Saturday, 01 Sep 2018 11:11:34 AM
China will set limit the number of online games from Myopia fears

शंघाई। चीन में बच्चों में मायोपिया (निकटदृष्टि दोष) की समस्या को रोकने के प्रयास के तहत कई ऑनलाइन गेम्स पर सरकार के नियंत्रण करने की योजना के खुलासे के बाद कई चीनी वीडियो गेम कंपनियों के शेयर गिर गए। यह योजना देश के तेजी से उभरते एवं बेहद लोकप्रिय वीडियो गेम उद्योग पर सरकारी निगरानी को मजबूत करने की दिशा में हालिया कदम है। बच्चों की आंखों की सुरक्षा के लिहाज से बीते बृहस्पतिवार को चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने ''अहम दिशानिर्देश’’ जारी किए थे, जिसके बाद इन नए नियमों की घोषणा की गई।

सरकार ने 'मोमो चैलेंज’ से बच्चों को दूर रखने की दी सलाह

चीन के शिक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि अधिकारी इंटरनेट गेम्स की कुल संख्या का नियमन एवं नियंत्रण करेंगे। साथ ही वे इस तरह के खेलों के नए नामों पर भी नजर रखेंगे। बयान पर आठ मंत्रालयों ने हस्ताक्षर किया है। इसमें कहा गया कि अधिकारी उम्र के अनुसार उपयुक्त अलर्ट प्रणाली का पता लगाएंगे और बच्चों के बीच खेल के घंटों को सीमित करने के लिए कार्रवाई करेंगे। इस सूचना से शुक्रवार सुबह चीनी वीडियो गेम कंपनियों के शेयर तेजी से गिर गए।

भूकंप के बाद के झटकों का पूर्वानुमान लगाएगी गूगल की कृत्रिम बुद्धिमत्ता प्रणाली

चीन में छात्रों खासकर छोटी उम्र के बच्चों के बीच मायोपिया की दर अधिक है। बहरहाल चीन के राष्ट्रीय रेडियो एवं टेलीविजन प्रशासन के अनुसार इस आदेश के बाद मई से घरेलू कंपनियों के लिए कोई नया नाम नहीं दिया गया और ना ही फरवरी से किसी नए आयातित खेल को स्वीकृति मिली है। राष्ट्रीय रेडियो एवं टेलीविजन प्रशासन नियमित रूप से इन खेलों की ऑनलाइन सूची अपडेट करता है।- एजेंसी

विलय के साथ देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी बनी वोडाफोन आइडिया लिमिटेड

गूगल तेज का नाम बदलकर हुआ Google Pay, लकी विजेताओं को गूगल दे रहा 1 लाख रुपए का इनाम



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.