5जी सेवाओं की संभावनाओं का पता लगाने के लिए बनेगी समिति: दूरसंचार सचिव

Samachar Jagat | Saturday, 15 Sep 2018 11:46:06 AM
Telecom Secretary said Committee to look into the possibilities of 5G services

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

नई दिल्ली। देश में 4जी के बाद अब 5जी सेवाओं के लिए काम किया जा रहा है। कई टेलीकॉम कंपनियों ने अस पर काम शुरु कर दिया है। दूरसंचार सचिव अरुणा सुंदरराजन ने शुक्रवार को कहा कि उनका विभाग यह पता लगाने के लिए एक समिति बनाएगा कि 5जी प्रौद्योगिकी का उपयोग किन किन क्षेत्रों में किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि विभाग को टेलीमेडिसिन और दूर से शल्यक्रिया, सुरक्षा निगरानी के लिए ड्रोन और वायु तथा जल प्रदूषण की निगरानी आदि कार्यों में 5जी प्रौद्योगिकी के प्रयोग के प्रस्ताव मिले हैं।

अभियंता दिवस पर गूगल ने भारत रत्न मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का डूडल बनाकर किया याद

उन्होंने कहा कि कंपनियों ने प्रारंभिक प्रयोग के मामले तैयार कर पेश किए हैं। 'हम एक केंद्रीय समूह बना रहे हैं जो यह देखेगा कि इसके प्रयोग के मामलों में क्या क्या है जो हमारे लिए काम का हो सकता है।’ दूरसंचार विभाग ने 5जी प्रौद्योगिकी के उपयोग के तौर तरीकों का विकास करने लिए एरिक्सन, नोकिया, सैमसंग, सिस्को और एनईसी से संपर्क किया है। इनमें से कुछ कंपनियां काफी काम कर भी चुकी हैं। विभाग स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफ़ेसर आरोग्यस्वामी जे पालराज के सुझावों का परीक्षण भी करा रहा है।

वॉट्सएप पर ग्रुप विडियो कॉल करने के लिए फॉलो करें ये स्टेप्स

उन्होंने कहा कि दूरसंचार कंपनियां 5जी के विकास पर काम कर रहीं हैं पर इस काम में सरकारी क्षेत्र की कंपनी भारत संचार निगम लि (बीएसएनएल) और निजी क्षेत्र की रिलायंस जियो काफी आगे हैं। दूरसंचार सेवा कंपनियों को स्पेक्ट्रम का आवंटन हो जाने के बाद कंपनियां देश में 5जी सेवाएं शुरू कर सकेंगी। भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने विभाग से 8,644 मेगा हर्ट्ज स्पेक्ट्रम की नीलामी की सिफारिश की है। इसका न्यूनतम अनुमानित मूल्य 4.9 लाख करोड़ रुपए आंका गया है। एजेंसी

अब ओपन सेल में बिक्री के लिए उपलब्ध होगा Xiaomi Mi A2

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.