संतान तीर्थ श्रृंगवेरपुर की कुंभ से पहले सुधरेगी सीरत, तैयार होगा टूरिस्ट फैसिलिटी सेंटर

Samachar Jagat | Wednesday, 10 Oct 2018 11:14:26 AM
Before the Kumbha of the holy shrine Shrungverpur, it will be revamped, the Tourist Facilitation Center

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इलाहाबाद। उत्तर प्रदेश सरकार ने रामायण कालीन एवं पौराणिक स्थल के रूप में चर्चित श्रृंगी ऋषि की तपोभूमि’श्रृंगवेरपुर धाम’को अन्तर्राष्ट्रीय पहचान दिलाने एवं पर्यटन स्थल के रूप को बढ़ावा देने के लिए करीब 29 करोड़ रूपए की लागत से कई योजनाएं मंजूरी दी है। राज्य सरकार कुंभ मेला से पहले श्रृंगवेरपुर धाम में टूरिस्ट फैसिलिटी सेन्टर का निर्माण और इसके साथ अन्य कार्यों को भी प्राथमिकता के साथ कराने की तैयारियों में जुटी है।

अगर आप भी करते हैं कांटेक्ट लेंस का इस्तेमाल तो संक्रमण से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

पर्यटन मंत्री डा रीता बहुगुणा जोशी ने सेंटर के निर्माण कार्यों का अब तक दो बार स्थलीय निरीक्षण भी किया है। श्रृंगवेरपुर की सूरत बदलने के लिए निर्माण कार्य तेजी से कराया जा रहा है। पर्यटन उपनिदेशक दिनेश कुमार ने बताया कि पर्यटन की दृष्टि से सरकार ने निर्णय लिया है कि वन गमन के दौरान श्रीराम के चरण जहां पड़े हैं वहां रामायण सर्किट का निर्माण कराया जाएगा।

मनुष्यों को आदिमानव से मिली हेपेटाइटिस और इन्फ्लूएंजा जैसी वायरल बीमारियों से लड़ने की क्षमता

इनमें पंचवटी, महाराष्ट्र, किष्किधा, अयोध्या, चित्रकूट और श्रृंगवेरपुर शामिल हैं। शायद गोस्वामी तुलसीदास ने इसीलिए रामायण में श्रृंगवेरपुर की महिमा का गुणगान करते हुए इसे संतान तीर्थ स्थल लिखा है। संतान तीर्थ के महत्त्व पर लिखा है, अगर श्रृंगवेरपुर न होता तो दशरथ के घर राम का जन्म न होता, अगर राम का जन्म न होता तो रामायण न होती और राम व रामायण के बिना इस सृष्टि की कल्पना ही नही की जा सकती।-एजेंसी

अगर आप भी है अधिक इटेंलीजेंट तो हो जाएं अलर्ट, अधिक बुद्धिमान लोगों को नहीं मिलते रोमांटिक साथी

पर्यटन की दृष्टि से बेहद ही उत्कृष्ट राज्य है मध्य प्रदेश, विश्व पर्यटन दिवस पर मिले 10 राष्ट्रीय पुरस्कार

 

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.