तिरुपति की तर्ज पर होगा धार्मिक पर्यटन का विकास

Samachar Jagat | Tuesday, 17 Apr 2018 12:47:52 PM
Religious tourism will be developed on the lines of Tirupati

झारखंड धाम। झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य के धार्मिक पर्यटन स्थलों को तिरूपति की तर्ज पर विकसित किया जा रहा है ताकि स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त हों। मुख्यमंत्री दास ने कहा कि झारखंड राज्य का नाम ही झारखंडधाम पर रखा गया है। इसलिए यह मात्र गिरिडीह का ही नहीं वरन पूरे राज्य के लिए पूजा-आराधना का एक प्रमुख स्थल है। इसे विकसित किए जाने में सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां इको-टूरिज्म की संभावनाओं को भी विकसित किया जाएगा। इसके साथ झारखंड धाम के संस्कृत महाविद्यालय का भी निर्माण करवाकर यहां अध्ययन-अध्यापन और शोध का बेहतर वातावरण तैयार किए जाने की जरूरत है।

ये है दुनिया का सबसे बड़ा भूतिया शहर

सरकार इसे प्राथमिकता देगी, मुख्यमंत्री ने कहा कि एक रूपए में 53 हजार महिलाओं को जमीन की रजिस्ट्री हो चुकी है। इस मामले में झारखण्ड देश का अग्रणी राज्य बने ऐसी सरकार की अपेक्षा है। इन 53 हजार जमीन मालकिनों का नैतिक दायित्व बनता है कि वे अपने बच्चों को स्कूल जरूर भेजें। बेटा-बेटी में कोई भेद न करें, समान रूप से सबको शिक्षा दें। 

लंबित पर्यटन परियोजनाओं को जल्द किया जाए पूरा

उन्होंने कहा कि संगीत कला भी ईश्वर की आराधना का माध्यम है। सरकार ईटखोरी, कौलेश्वरी, रजरप्पा, मैथन, झारखण्ड धाम आदि जगहों पर महोत्सवों का आयोजन कर धार्मिक पर्यटन एवं सांस्कृतिक पर्यटन को बढ़ावा दे रही है ताकि देश-दुनिया के तमाम लोग झारखंड के इन पर्यटन स्थलों से परिचित होकर यहां आएं। -एजेंसी

दुनिया के सबसे सस्ते शहरों में शामिल हैं भारत के ये शहर 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.