इस नदी से निकलते हैं शिवलिंग, लोग देखकर रह जाते हैं हैरान

Samachar Jagat | Monday, 09 Jul 2018 05:11:46 PM
Shivaling emanates from this river, people are surprised to see

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंटरनेट डेस्क। आपने आज तक भगवान शिव के मंदिर में तो शिवलिंग देखा होगा, मंदिर में जाकर लोग सच्चे मन से शिवलिंग की पूजा करते हैं। लेकिन आपको ये जानकर आश्चर्य होगा कि एक जगह ऐसी भी है जहां लोग शिवलिंग की पूजा करने के लिए नहीं बल्कि उन्हें देखने के लिए यहां जाते हैं। यहां पर एक या दो नहीं बल्कि हजारों शिवलिंग हैं जो पर्यटकों को आकर्षित करते हैं। आप भी जरूर जानना चाहेंगे इस खास जगह के बारे में तो आइए आपको बताते हैं इस खास जगह के बारे में .....

वास्तु शास्त्र के अनुसार ऑफिस में कुछ इस तरह का होना चाहिए कर्मचारियों के बैठने का स्थान

कर्नाटक के उत्तर कन्नडा ज़िले में स्थित शामला नदी पर हजारों शिवलिंग बने हुए हैं। इस स्थान को सह्स्त्रलिंगा के नाम से जाना जाता है। चट्टान पर बने ये शिवलिंग नदी के घटते जलस्तर के साथ ही दिखने लगते हैं। सिरसी के राजा सदाएश्वर्य (1678-1718) ने इन शिवलिंगों का निर्माण करवाया था।

घर में लेटबाथ के एकसाथ होने से उत्पन्न होता है वास्तुदोष, उठानी पड़ती हैं ये परेशानियां

ऐसे ही कुछ शिवलिंग दक्षिण एशियाई देश कंबोडिया में भी देखने को मिलते हैं। सहस्त्रलिंगा में चट्टानों पर शिवलिंग और कुछ अन्य कलाकृत्तियां निर्मित हैं। यहां की चट्टानों में पशुओं की भी आकृतियां निर्मित हैं। यहां का झरना इसकी खूबसूरती को चार चांद लगा देता है। जहां ये शिवलिंग शिव भक्तों के लिए आकर्षण का प्रमुख केंद्र हैं वहीं देसी-विदेशी पर्यटक भी इन अनोखी जगहों को देखने के लिए यहां आते हैं। अगर आप भी इस खास जगह को देखना चाहते हैं तो आप यहां जा सकते हैं।

बड़े काम की हैं वास्तु पर आधारित ये छोटी-छोटी बातें, घर से तनाव और परेशानियों को रखती हैं दूर

अनोखी झीलः पूर्व से देखने पर सूर्य के समान गोल और पश्चिम से देखने पर दिखती है आधे चंद्रमा के समान

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...


Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.