सरहदों से लगे 2,000 किलोमीटर लम्बे क्षेत्र की हाईटेक हिफाजत करेगा बीएसएफ

Samachar Jagat | Sunday, 16 Sep 2018 10:50:25 AM
BSF will save 2,000 kilometers of hi-tech hike in areas

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

इंदौर। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने शनिवार को कहा कि वह पाकिस्तान और बांग्लादेश की सरहदों से सटे कुल 2,000 किलोमीटर लम्बे क्षेत्र की अत्याधुनिक तकनीकों से निगहबानी की अहम योजना पर काम कर रहा है। बीएसएफ के महानिदेशक (डीजी) के के शर्मा ने यहां संवाददाताओं को बताया, "हमने पाकिस्तान और बांग्लादेश की सीमाओं के पास कुल मिलाकर लगभग 2,000 किलोमीटर की लम्बाई में फैले ऐसे क्षेत्रों की पहचान की है जो सुरक्षा की दृष्टि से बेहद संवेदनशील हैं।

वैज्ञानिकों ने कहा, प्लूटो को फिर से ग्रह के तौर पर वर्गीकृत किया जाना चाहिए

समय आने पर हम इन क्षेत्रों में अपनी उस योजना का सिलसिलेवार तरीके से विस्तार करेंगे जो अत्याधुनिक तकनीकों और उपकरणों के जरिये भारतीय सरहदों की निगहबानी से जुड़ी है।" उन्होंने कहा, "हो सकता है कि हम आने वाले समय में पाकिस्तान सीमा से लगे क्षेत्रों में इस योजना को अमली जामा पहनाने को अपेक्षाकृत ज्यादा तवज्जो दें।"

शर्मा ने बताया कि सीमाओं की सुरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाने की इस योजना के तहत बीएसएफ ने जम्मू क्षेत्र में पाकिस्तान सीमा से सटे दो स्थानों पर 5.5-5.5 किलोमीटर के दो खंडों में निगहबानी का विशेष तंत्र विकसित किया है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ भसह 17 सितंबर को इसका औपचारिक उद्घाटन करेंगे।

गरीब किसान को खेत में मिला 12 कैरेट 58 सेंट का हीरा, बनेगा लखपति

उन्होंने बताया, "सीमा पर किसी भी अवांछित या असामान्य हरकत की स्थिति में हमें इस तंत्र की मदद से फौरन सूचना मिल जायेगी और जरूरत पडऩे पर हम फटाफट प्रतिक्रिया दे सकेंगे।" शर्मा ने कहा, "गर्मी, सर्दी, बर्फबारी और बरसात के प्रतिकूल मौसमी हालात में भी सरहदों की 24 घंटे रक्षा करने वाले बीएसएफ जवानों को इस तंत्र से काफी मदद मिलेगी।"- एजेंसी

कैंसर बायोमार्कर्स के लिए भारतीय मूल के अमेरिकी वैज्ञानिक को मिला 65 लाख डॉलर का पुरस्कार

स्वदेशी जीपीएस प्रणाली मछुआरों को करेगी प्राकृतिक आपदाओं, समुद्री सीमा के बारे में सतर्क

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.