अब इंसान के बाद में गाय-भैंसों के लिए भी जारी होगी विशिष्ट पहचान संख्या

Samachar Jagat | Tuesday, 13 Mar 2018 03:36:38 PM
Now after human Cows and buffaloes will also be released for specific identification numbers

नई दिल्ली। भारत सरकार 12 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या का इस्तेमाल करके दुधारू गायों और भैंसों की पहचान कर रही है । इस संबंध में नौ करोड़ दुधारू मवेशियों की पहचान करने के लिए 148 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। कृषि मंत्री राधा सिंह ने आज लोकसभा में यह जानकारी दी।

ब्रह्मांड में नई दुनिया का पता लगाने के लिए मदद करेगी गूगल की आर्टिफिशयल इंटेलीजेंस प्रणाली

सिंह ने हिना गावित और पी आर सुंदरम के प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि इससे पशुओं के वैज्ञानिक प्रजनन, रोगों के फैलने पर नियंत्रण और दूध तथा दुग्ध उत्पादों के व्यापार में वृद्धि करने के उद्देश्य की प्राप्ति होगी। राष्ट्रीय पशु उत्पादकता मिशन के ‘पशु संजीवनी’ घटक के तहत इसे लागू किया जा रहा है।

तेंदू के फलों से लदे वृक्ष लोगों को कर रहे हैं आकर्षित

सिंह ने कहा कि इसकी तकनीक के लिहाज से राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड पहले ही पशु स्वास्थ्य और उत्पादन संबंधी सूचना नेटवर्क (आईएनएपीएच) विकसित कर चुका चुका है, जिसे 12 अंकीय विशिष्ट पहचान संख्या वाले पोलीयूरिथिन टैग का प्रयोग करके पशु पहचान संबंधी डाटा अपलोड करने के लिए राष्ट्रीय डाटाबेस के रूप में प्रयोग किया जा रहा है।

यहां पेड़ों पर लटकी दर्जनों गुड़िया आपस में करती हैं बातें

कृषि मंत्री ने बताया कि निविदा के आधार पर इस पोलीयूरिथिन टैग की कीमत आठ से 12 रुपये प्रति टैग है। नौ करोड़ दुधारू पशुओं की पहचान करने तथा उन्हें नकुल स्वास्थ्य पत्र (स्वास्थ्य कार्ड) जारी करने के लिए पशु संजीवनी घटक के तहत 148 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। इस घटक के कार्यान्वयन के लिए राज्यों को केंद्रीय हिस्से के रूप में 75 करोड़ रुपये की राशि पहले ही जारी की जा चुकी है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.