वैज्ञानिकों ने कहा, प्लूटो को फिर से ग्रह के तौर पर वर्गीकृत किया जाना चाहिए

Samachar Jagat | Saturday, 15 Sep 2018 02:11:59 PM
Scientists said, Pluto should be classified again as a planet

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures

वाशिंगटन। प्लूटो से उसके ग्रह होने का दर्जा छीन लिया गया है। जिसके चलते वैज्ञानिक उसे फिर से ग्रह के तौर पर गिने जाने के लिए प्रयास कर रहे हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि प्लूटो से गलत तरीके से ग्रह का दर्ज़ा छीना गया है और कहा कि इसे फिर से ग्रह के तौर पर वर्गीकृत किया जाना चाहिए। खगोलविदों के वैश्विक समूह अंतराष्ट्रीय खगोलीय संघ (आईएयू) ने 2006 में ग्रह की एक परिभाषा स्थापित की जिसके तहत ग्रह को अपनी कक्षा को ''स्पष्ट’’ करना जरूरी है।

गरीब किसान को खेत में मिला 12 कैरेट 58 सेंट का हीरा, बनेगा लखपति

पड़ोसी ग्रह वरूण का गुरुत्व बल प्लूटो पर प्रभाव डालता है और प्लूटो कुइपर बेल्ट में अपनी कक्षा बर्फीली गैसों और पिडों से साझा करता है। इसका मतलब यह निकाला गया कि प्लूटो ग्रह के दर्जे से बाहर है। इकारस नाम के जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में अनुसंधानकर्ताओं ने कहा कि ग्रहों के वर्गीकरण के लिए यह मानक अनुसंधान साहित्य से मेल नहीं खाता।

पर्यटक को चांद के पास भेजने की योजना बना रहा है स्पेस-एक्स

उन्होंने पिछले 200 साल के वैज्ञानिक साहित्य की समीक्षा की और पाया कि सिर्फ 1802 के एक प्रकाशन में ग्रह के वर्गीकरण के लिए स्पष्ट कक्षा की जरूरत का इस्तेमाल किया गया, और यह तब की अपुष्ट तार्किकता पर आधारित थी। उपग्रह जैसे शनि के टाइटन और बृहस्पति के यूरोपा को गैलीलियो के वक्त से ही ग्रह विज्ञानियों द्बारा ग्रह कहा जाता था। अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ सेंट्रल फ्लोरिडा के ग्रह विज्ञानी फिलिप मेट्जगर ने कहा, ''आईएयू परिभाषा कहती है कि ग्रह विज्ञान का मूल उद्देश्य, ग्रह, को उस परिकल्पना पर परिभाषित किया जाना था जिसे किसी ने अपने अनुसंधान में इस्तेमाल नहीं किया हो।’’- एजेंसी

कैंसर बायोमार्कर्स के लिए भारतीय मूल के अमेरिकी वैज्ञानिक को मिला 65 लाख डॉलर का पुरस्कार

भारत की पहली स्वदेशी परमाणु रोधी मेडिकल किट विकसित

Rajasthan Tourism App - Welcomes to the land of Sun, Sand and adventures


 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!



Copyright @ 2018 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.