BREAKING NEWS
Hindi NewsSearch Result for " "
हर कोई अपने चेहरों को साफ और सुदंर रखना चाहता है। इसके लिए वह तरह—तरह के प्रयोग भी करता है। लेकिन हम इस खबर में एक ऐसी चीज के बारे में बताएंगे जो कि आपके चेहरे को ग्लोइंग करने में मददगार होती है। जी हां हम बात कर रहे है शहद की। शहद का ज्यादातर उपयोग औषधी के रूप में किया जा सकता है।
सोमवार को रोटरी डिस्ट्रिक्ट 3054 की डिस्ट्रिक्ट कॉन्फ्रेंस का आयोजन जयपुर के बिरला ऑडिटोरियम में ​किया गया। इस मौके पर आर्य ग्रुप ऑफ़ कॉलेजेस की वाइस प्रेसिडेंट डॉ पूजा अग्रवाल ने अपने विचार रखे। उन्होंने कहा कि अगर विश्व को रहने के लिए और सुंदर स्थान बनाना है तो युवा सशक्तिकरण बेहद जरूरी है।
कई लोगों के गर्मीयों में और या फिर अक्सर ज्यादा पसीना आते रहते है। तो वहीं पसीना आना एक सामान्य प्रक्रिया है। लेकिन जब पसीना अधिक मात्रा में आने लग जाता है। तो उस समय वह व्यक्ति इंसान शारीरिक और मानसिक दोनों तरह से परेशान हो जाता है। इस स्थिति पर लोगों का जल्दी ध्यान भी नहीं जाता है।
latest hindi joke, hindi joke, funny joke, latest joke
latest hindi joke, hindi joke, funny joke, latest joke
धर्म डेस्क। प्राचीन काल में जब भी ऋषि - मुनि किसी व्यक्ति से नाराज हो जाते थे तो उसे श्राप दे देते थे और मुनियों द्वारा दिए गए श्राप का फल भी लोगों को भोगना पड़ता था। अगर देखा जाए तो श्राप का सीधा सा अर्थ होता है बद्दुआ। जिस प्रकार व्यक्ति को दुआओं से सुख - समृद्धि की प्राप्ति होती है उसी प्रकार बद्दुआ से व्यक्ति के जीवन की सारी खुशियां छिन जाती हैं।
कहते हैं हर व्यक्ति गलतियों का पुतला होता है, कमियों की संभावनाओं से भरा होता है, इसमें कहीं कोई दो राय नहीं है क्योंकि सम्पूर्णता का अर्थ है सब कुछ पा लेना सब कुछ जान लेना और सर्वज्ञ हो जाना और ऐसा संभव हुआ नहीं है आज तक।
जहां-जहां भारतीय समुदाय की आबादी बढ़ रही है, वहां हिंदी की स्वीकार्यता बढ़ती ही जा रही है। एक दिन ऐसा भी आ सकता है कि जब हिंदी सिर्फ भारत ही नहीं, अपितु विश्व भाषा बन जाएगी।
अंतरराष्ट्रीय बौद्धिक संपदा (आईपी) सूचकांक में भारत आठ पायदान की छलांग के साथ 36वें स्थान पर पहुंच गया है। अमेरिकी चैम्बर ऑफ कॉमर्स के वैश्विक इनोवेशन नीति केंद्र (जीआईपीसी) के सूचकांक में 2018 में भारत 44वें स्थान पर था।
क्रिकेट विश्व कप 2019 के आयोजन में अब जब सिर्फ 100 दिन का समय बचा है और शायद इस बार इंग्लैंड सीमित ओवरों की इस प्रतिष्ठित ट्राफी के अपने इंतजार को खत्म करने में सफल रह सकता है। एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में बेहतरीन फार्म में चल रही इंग्लैंड की टीम ने 1975 से शुरू हुए प्रत्येक विश्व कप में हिस्सा लिया है लेकिन टीम कभी खिताब नहीं

Copyright @ 2019 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.