Devendra Fadnavis : महाराष्ट्र में भाजपा के लिए राज्यसभा चुनाव में आसान थी जीत

Samachar Jagat | Saturday, 11 Jun 2022 01:12:07 PM
Devendra Fadnavis : Rajya Sabha election was easy for BJP in Maharashtra

मुंबई |  महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राज्यसभा की तीन सीटों पर जीत दर्ज करने पर पार्टी के वरिष्ठ नेता देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को कहा कि यह एक ''आसान जीत’’ थी। फडणवीस ने इस जीत का श्रेय पार्टी की बेहतरीन रणनीति और साझा प्रयासों को दिया। यहां विधान भवन में पत्रकारों से बातचीत में फडणवीस ने शिवसेना नेता संजय राउत की चुटकी लेते हुए कहा कि भाजपा के धनंजय महादिक को उनसे ज्यादा वोट मिले हैं। राउत महाराष्ट्र में राज्यसभा चुनाव में जीत दर्ज करने वाले उम्मीदवारों में शामिल हैं।

भाजपा ने महाराष्ट्र में राज्यसभा की छह सीटों पर हुए चुनाव के लिए तीन उम्मीदवार खड़े किए थे। भाजपा के विजयी उम्मीदवारों में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, प्रदेश के पूर्व मंत्री अनिल बोंडे और पूर्व सांसद धनंजय महादिक शामिल हैं।वहीं, शिवसेना सांसद संजय राउत, राष्ट्रवादी कांग्रेस  पार्टी (राकांपा) के प्रफुल्ल पटेल और कांग्रेस  के इमरान प्रतापगढ़ी ने भी राज्यसभा चुनाव में जीत हासिल की।
 

महादिक ने छठी सीट पर हुए मुकाबले में शिवसेना के संजय पवार को हराया।
राउत पर निशाना साधते हुए फडणवीस ने कहा, ''सत्तारूढ़ महा विकास अघाडी (एमवीए) की हालत इतनी खस्ता है कि भाजपा के तीसरे उम्मीदवार को एमवीए के पहले उम्मीदवार संजय राउत (41) को मिले मत से अधिक वोट (41.56) हासिल हुए। भाजपा के दो अन्य उम्मीदवारों को 48-48 वोट मिले।’’ उन्होंने कहा, ''यह हमारी बेहतरन रणनीति और साझा प्रयासों का नतीजा है। मैं खासतौर पर भाजपा के दो गंभीर रूप से बीमार विधायकों-लक्ष्मण जगताप और मुक्ता तिलक का आभार व्यक्त करना चाहता हूं, जो एम्बुलेंस से मुंबई आए और पार्टी के पक्ष में वोट डाला।’’

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ''मैंने हमारे बीमार विधायकों के रिश्तेदारों को भी सूचित कर दिया था कि उन्हें मतदान के लिए मुंबई नहीं आना चाहिए। लेकिन उन्होंने वोट डालने पर जोर दिया और एम्बुलेंस में आए।’’ उन्होंने कहा कि राज्यसभा चुनाव में जीत के साथ ही भाजपा ने अपना विजय मार्च शुरू कर दिया है, जो अगले चुनावों तक चलता रहेगा। फडणवीस ने शिवसेना का नाम लिए बगैर आरोप लगाया, ''ये नतीजे दिखाते हैं कि लोग राज्य में क्या चाहते थे, क्योंकि हमारी पीठ में छुरा घोंपकर 2019 में हमसे सत्ता छीन ली गई थी।’’ 



 

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.