Hemant ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, 1417 करोड़ वापस करने का किया आग्रह

Samachar Jagat | Friday, 23 Oct 2020 12:00:01 PM
Hemant writes to the Prime Minister, urging him to return 1417 crore

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर दामोदर घाटी निगम (डीवीसी) के लंबित भुगतान के संबंध में रिजर्व बैंक (आरबीआई) में राज्य के खाते से 1417 करोड़ रुपये की कटौती की कार्रवाई की निदा करते हुए इस राशि को वापस करने का आग्रह किया है।

श्री सोरेन के प्रधानमंत्री को लिखे पत्र को गुरुवार को मीडिया में साझा किया गया। पत्र में कहा गया है कि कटौती तीन पार्टी समझौते के अनुसार की गई थी लेकिन वह कटौती के तरीके से आहत हैं क्योंकि वर्तमान परिस्थितियों में केंद्र सरकार को धन में कटौती नहीं करनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि समझौते को सामान्य स्थिति में शामिल किया गया था, लेकिन कोरोनो संकट के बीच अधिनियम के प्रावधानों को लागू करना देश के संघीय ढांचे पर हमला प्रतीत होता है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह दूसरा अवसर है जब इस प्रकार की कटौती की गई है। उन्होंने कहा कि अन्य राज्यों में झारखंड की तुलना में अधिक बकाया है, जबकि राज्य पर केवल 55०० करोड़ रुपये बकाया है। झारखंड जैसे एक आदिवासी, दलित और अल्पसंख्यक बहुल राज्य के खाते से इसे काट लिया गया है।

श्री सोरेन ने कहा कि उनकी सरकार ने जनवरी 2०2० में काम करना शुरू किया और उस समय 1313 करोड़ रुपये बकाया थे। इसके बावजूद 741 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया। उन्होंने कहा कि पूर्ववतीã भाजपा सरकार के पांच साल के शासनकाल में 5514 करोड़ रुपये का बकाया जमा हुआ था, लेकिन उस समय समझौते के प्रावधानों को लागू नहीं किया गया।

मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से कटौती को रद्द करने और राज्य को धन वापस देने का आग्रह किया। साथ ही बिजली विभाग को निर्देश दिया कि वे महामारी के बीच भविष्य में इस तरह के कृत्यों को न करें और साथ ही कोयला मंत्रालय को समझौते के लिए एक चौथी पार्टी बनाने की मांग की। (एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.