Hindi Day समारोह अन्य भाषा-भाषियों पर हिंदी थोपने की 'गुप्त चाल’ : कुमारस्वामी

Samachar Jagat | Monday, 14 Sep 2020 05:59:20 PM
Hindi Day celebrations 'secret move' of imposing Hindi on other languages: Kumaraswamy

बेंगलुरु। 'हिदी दिवस’ समारोह को अन्य भाषा-भाषियों पर इस भाषा को थोपने की 'गुप्त चाल’ करार देते हुए जनता दल सेकुलर (जद-एस) के नेता एच डी कुमारस्वामी ने सोमवार को उसे रद्द करने की मांग की।

'हिदी दिवस’ के दिन कई ट्वीट करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने इस भाषा को 'थोपने’ के विरूद्ध चेतावनी दी और कहा कि कन्नड़ भाषियों के सौहार्दपूणã स्वभाव को उनकी कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए।

कुमारस्वामी ने ट्वीट किया, '' भारत विविध भाषाओं, संस्कृतियों और परंपराओं की भूमि है और यहां कन्नड़ समेत अन्य भाषा-भाषियों पर हिदी थोपने के लिए कई तरीके अपनाये जा रहे हैं। आज का हिदी दिवस भी ऐसी ही गुप्त चाल है। गर्वशील कन्नड़ भाषी इस हिदी दिवस के खिलाफ हैं, जो भाषाई अहंकार का प्रतीक है।’’
उनका ट्वीट कन्नड़ भाषा में था।

उन्होंने लिखा कि हिदी हमारी राष्ट्रभाषा नहीं है और संविधान में ऐसी कोई अवधारणा है ही नहीं। उन्होंने आरोप लगाया कि उसके बाद भी उसे राष्ट्रभाषा के रूप में पेश करने का प्रयास किया जा रहा है और ''उस पर राजनीति की जाती है।’’

कुमारस्वामी ने कहा, ''अब अति हो गया है। अन्य भाषा-भाषी ऐसे प्रयासों के खिलाफ बगावत का झंडा उठा लें, उससे पहले हिदी को थोपा जाना बंद किया जाना चाहिए।’’
उन्होंने सवाल दागा, '' अन्य भाषा-भाषियों के लिए मनाने के लिए क्या है। निरर्थक हिदी दिवस को रद्द कर दिया जाना चाहिए।’’

पूर्व मुख्मयंत्री ने कहा कि यदि हिदी दिवस मनाया ही जाना है तो कन्नड़ एवं अन्य भाषाओं के दिवस भी देशभर में केंद्र द्बारा मनाये जाने चाहिए। उन्होंने कहा, ''इसके लिए पृथक दिवसों की घोषणा की जानी चाहिए। एक नवंबर को देशभर में कन्नड़ दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए। ’’ हाल के समय में कर्नाटक के समाज के एक वर्ग में हिदी विरोधी भावना मजबूत हुई है। (एजेंसी)



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.