रामलीला भारतीय संस्कृति की परम्परा रही है: आनंदीबेन

Samachar Jagat | Saturday, 14 Nov 2020 06:54:05 PM
Ramlila is a tradition of Indian culture: Anandiben

 लखनऊ। राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ अयोध्या में रामकथा पार्क में ‘दीपोत्सव-2020’ कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि 05 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशभर के लोगों के सहयोग से निर्मित होने वाले श्रीराम मन्दिर के भूमि पूजन एवं कार्यारम्भ समारोह में हिस्सा लेकर भारतीय मूल्यों के संवाहक प्रभु श्रीराम के भव्य मन्दिर का मार्ग प्रशस्त किया।

उन्होंने कहा कि भगवान राम की जन्मस्थली अयोध्या का इतिहास पुरातन है। श्रीराम और रामायण भारतीय सांस्कृतिक और सामाजिक जीवन मूल्यों के वाहक है। भाषा और संवाद की दृष्टि से भी रामलीला भारतीय संस्कृति की परम्परा रही है। भारत के अलावा माॅरीशस, इण्डोनेशिया, सूरीनाम, म्यान्मार और थाईलैंड जैसे देशों में रामलीला की शानदार परम्परा आज भी जीवंत है। वहां के लोगों की आस्था में, अतीत में श्रीराम किसी न किसी रूप में रचे-बसे हुए हैं। यह न सिर्फ हमारी सांस्कृतिक उपलब्धि की मिसाल है, बल्कि इसमें भविष्य की कई मांगलिक संभावनाएं भी विद्यमान है।

राज्यपाल ने कहा कि अयोध्या धाम में श्रीराम मन्दिर हमारी सांस्कृतिक एकता और वसुधैव कुटुम्बकम का प्रतीक है। विश्व पटल पर अयोध्या धाम का विकास स्थापित धार्मिक पर्यटन नगरी के रूप में होगा। मन्दिर निर्माण के फलस्वरूप अयोध्या धाम में रोजगार सृजन एवं आर्थिक गतिविधियों का उन्नयन होगा।
राज्यपाल ने कहा कि कोरोना महामारी से सभी को सावधान और सतर्क रहना है। कोरोना के संक्रमण से बचाव के लिये शारीरिक दूरी बनाये रखें, फेस मास्क का प्रयोग करें और बार-बार हाथ धोने का अवश्य ध्यान रखें। उन्होंने सभी पर्वों व त्योहारों के दौरान कोविड-19 प्रोटोकाॅल का पूर्ण पालन करने की अपील की।

 



 
loading...




Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.