दर्शकों के दिलों पर खास पहचान बनायी अनिल ने

Samachar Jagat | Monday, 23 Dec 2019 11:39:27 AM
Anil created a special identity on the hearts of the audience

इंटरनेट डेस्क। हिंदी फिल्म जगत में अनिल कपूर का नाम उन गिने चुने अभिनेताओं में शुमार किया जाता है जिन्होंने चार दशक से अपने दमदार अभिनय से दर्शकों के दिल में आज भी एक .खास मुकाम बना रखा है। मुंबई के चेंबूर इलाके की छोटी सी बस्ती में 24 दिसंबर 1959 को जन्में अनिल के पिता सुरेन्द्र कपूर फिल्म निर्माता थे।

घर में फिल्मी माहौल में रहने के कारण वह अक्सर अपने पिता के साथ शूटिंग देखने चले जाते और अभिनेता बनने का सपना देखा करते। अनिल के पिता ने उनके फिल्मों के प्रति बढते रूझान को पहचान लिया और उन्हें इस रास्तें पर चलने के लिये प्रेरित किया। अनिल ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1979 में प्रदर्शित फिल्म ‘हमारे तुम्हारे’ से की लेकिन कमजोर पटकथा और निर्देशन के कारण फिल्म बॉक्स ऑफिस पर बुरी तरह से नकार दी गयी।

वर्ष 1982 में उन्हें दिलीप कुमार और अमिताभ बच्चन के साथ फिल्म शक्ति में काम करने का मौका मिला लेकिन इससे उन्हें कुछ खास फायदा नहीं पहुंचा।
वर्ष 1983 में अनिल को अपने पिता के बैनर तले बनी फिल्म ‘वो सात दिन’ में काम करने का अवसर मिला। इस फिल्म में उनके सामने कला फिल्मों के महारथी नसीरूदीन शाह थे लेकिन अनिल कपूर अपने दमदार अभिनय से दर्शकों का दिल जीतने में सफल रहे।

फिल्म की सफलता के बाद वह कुछ हद तक अपनी पहचान बनाने में सफल रहे । वर्ष 1985 मे अनिल को यश चोपडा की फिल्म ‘मशाल’ में काम करने का अवसर मिला। यूं तो पूरी फिल्म अभिनेता दिलीप कुमार के इर्द गिर्द घूमती थी लेकिन अनिल ने फिल्म में अपनी छोटी सी भूमिका में दर्शकों का दिल जीत लिया। इस फिल्म में दमदार अभिनय के लिये उन्हें सहायक अभिनेता का फिल्म फेयर अवार्ड भी मिला।

वर्ष 1987 में प्रदर्शित फिल्म ‘मिस्टर इंडिया’ अनिल के सिने करियर की सबसे कामयाब फिल्म साबित हुयी। शेखर कपूर के निर्देशन में बनी इस फिल्म में अनिल ने एक ऐसे युवक की भूमिका निभायी जिसे एक चमत्कारी यंत्र मिल जाता है जिसके सहारे वह गायब हो सकता है। बाद में अपने देश को बर्बादी से बचाने के लिये वह खलनायक से मुकाबला करता है और उसे हराकर विजयी बनता है।

 वर्ष 1988 में अनिल के सिने करियर की एक और अहम फिल्म ‘तेजाब’ प्रदर्शित हुयी। एन चंद्रा के बैनर तले बनी इस फिल्म में अनिल ने एक सीधे सादे नौजवान की भूमिका निभायी जो देश और समाज के प्रति समर्पित है लेकिन समाज के पैले भ्रष्टाचार की वजह से वह लोगो की नजर में तेजाब बन जाता है जो सारे समाज को जलाकर खाक कर देना चाहता है।



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.