मालदीव में अपना दूतावास खोलेगा अमेरिका: Mike Pompeo

Samachar Jagat | Thursday, 29 Oct 2020 12:30:02 PM
America will open its embassy in Maldives: Mike Pompeo

माले। अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने बुधवार को घोषणा की कि अमेरिका मालदीव में एक दूतावास खोलेगा। पोम्पियो ने हिद महासागर में रणनीतिक रूप से स्थित मालदीव के नेतृत्व के साथ व्यापक वार्ता की। दोनों देशों ने कुछ सप्ताह पहले एक महत्वपूर्ण रक्षा सहयोग समझौता किया था।

इस कदम को क्षेत्र में चीन के बढ़ते प्रभाव को रोकने के लिए अमेरिका की खुले एवं मुक्त हिद-प्रशांत के लिए प्रतिबद्धता को आगे बढ़ाने के हिस्से के तौर पर देखा जा रहा है। पोम्पियो ने ट्वीट किया, ''मुझे माले में दूतावास खोलने की हमारी योजना की घोषणा करते हुए खुशी हो रही है। 1966 में हमारे राजनयिक संबंध स्थापना के बाद से, हमने देखा है कि मालदीव ने लोकतांत्रिक संस्थानों का समर्थन करने में बड़ी प्रगति की है और हमें क्षेत्रीय सुरक्षा के मुद्दों पर उनके साथ साझेदारी करने पर गर्व है।’’

अमेरिका का मालदीव में वाणिज्य दूतावास या दूतावास नहीं है। श्रीलंका में स्थित अमेरिकी राजदूत को इस देश के लिए अधिकृत किया गया है।
पोम्पियो ने यहां राष्ट्रपति इब्राहिम मोहम्मद सोलिह और विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद से मुलाकात करने के बाद एक बयान में कहा, ''यह कदम अमेरिका-मालदीव संबंधों की निरंतर वृद्धि और अमेरिका की मालदीव और हिद-प्रशांत क्षेत्र के प्रति अडिग प्रतिबद्धता को रेखांकित करता है।’’
भारत और श्रीलंका से यहां पहुंचे पोम्पियो ने देश के नेतृत्व के साथ बातचीत करने के बाद कहा कि उनकी मालदीव के राष्ट्रपति सोलिह के साथ ’’शानदार’’ मुलाकात हुई।

पोम्पियो ने एक ट्वीट में कहा, ''माले में राष्ट्रपति सोलिह के साथ शानदार बैठक की। मैंने मालदीव में अमेरिकी दूतावास खोलने की हमारी योजना के बारे में एक ऐतिहासिक घोषणा की। हम मालदीव के लोगों के साथ अपनी दोस्ती को बहुत अधिक महत्व देते हैं और हमारी साझेदारी को अगले स्तर तक ले जाने के इच्छुक हैं।’’ मालदीव के राष्ट्रपति कार्यालय ने एक बयान में कहा कि राष्ट्रपति सोलिह और अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पियो ने कई मुद्दों पर बात की। चर्चा द्बिपक्षीय संबंधों और बहुपक्षीय सहयोग को मजबूत करने, व्यापार और निवेश की सुविधा, पर्यावरण संरक्षण, साइबर सुरक्षा, आतंकवाद से मुकाबला, एक स्थिर, खुले और शांतिपूर्ण हिद महासागर क्षेत्र के सिद्धांत को कायम रखने को लेकर हुई।

मालदीव के राष्ट्रपति ने पोम्पियो का मालदीव में स्वागत करते हुए मालदीव के प्रति अमेरिकी सरकार की उदार सहायता और कई महत्वपूर्ण द्बिपक्षीय क्षेत्रों में मालदीव के साथ उनके बढ़ते सक्रिय और सकारात्मक संबंधों के लिए उन्हें धन्यवाद दिया। बयान में कहा गया कि राष्ट्रपति सोलिह और अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पियो ने मालदीव-अमेरिका संबंधों को मजबूत करने की दिशा में काम करने की आपसी प्रतिबद्धता की पुष्टि की।
मालदीव के विदेश मंत्री अब्दुल्ला शाहिद ने कहा कि मालदीव में अमेरिकी दूतावास खुलने की आज की घोषणा हमारे दीर्घकालिक संबंधों में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।

मंत्री ने ट्वीट किया, ''मैं इस ऐतिहासिक कदम के लिए अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और अमेरिकी सरकार को धन्यवाद देता हूं। अमेरिका और मालदीव की साझेदारी का भविष्य निश्चित रूप से उज्ज्वल है।’’ मालदीव में वर्तमान में ब्रिटेन, भारत, श्रीलंका, बांग्लादेश, पाकिस्तान, सऊदी अरब, जापान और चीन के राजनयिक मिशन हैं। मालदीव के राष्ट्रपति कार्यालय ने पोम्पियो की यात्रा को 1992 में अमेरिकी विदेश मंत्री जेम्स एडिसन बेकर की मालदीव की यात्रा के बाद से अमेरिकी सरकार के किसी अधिकारी द्बारा सर्वोच्च स्तर की यात्रा बताया। साथ ही कहा कि मालदीव में अमेरिकी दूतावास खोलने का निर्णय ''अमेरिका द्बारा मालदीव के साथ अपने बढ़ते द्बिपक्षीय संबंधों को दिये जाने वाले को महत्व को दिखाता है।’’
हिद महासागर में चीनी नौसेना की बढ़ती मौजूदगी के बीच अमेरिका और मालदीव ने सितंबर में एक रक्षा सहयोग समझौता किया था।
अमेरिका ने हिद महासागर में शांति एवं सुरक्षा बरकरार रखने के वास्ते सहयोग को और गहरा करने के लिए मालदीव के साथ रक्षा सहयोग की रूपरेखा पर हस्ताक्षर किये थे। (एजेंसी)   



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.