डिजिटल स्ट्राइक के बाद चीन के बदले सुर, कहा- हमारी इकोनॉमी एक दूसरे पर टिकी हैं, इस से नुकसान होगा

Samachar Jagat | Friday, 31 Jul 2020 11:14:58 AM
China Warns India Against

चीन ने गुरुवार को कहा कि पिछले महीने पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में एक झड़प जिसमे 20 भारतीय सैनिक शहादत को प्राप्त हुए. उसके बाद भारत के साथ अपनी अर्थव्यवस्था के "मजबूर पतन", दोनों देशों को चोट पहुंचेगी। चीनी राजदूत ने कहा कि चीन भारत के लिए एक रणनीतिक खतरा नहीं है। चीन का ये बयान ऐसे समय आया है जब भारत ने पिछले दिनों चाइनीज ऐप बैन किए हैं और बॉर्डर पर दोनों देशों के बीच तनाव बना हुआ है। और यह कि "सामान्य संरचना जिसे हम एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते हैं, अपरिवर्तित रहता है"।

चीन के राजदूत भारत-चीन संबंधों पर इंस्टीट्यूट ऑफ चाइनीज स्टडीज, दिल्ली की तरफ से हुई वेबिनार में बोल रहे थे। उन्होंने कहा, "किसी एक को नुकसान पहुंचाने की सोच नहीं रखनी चाहिए। साथ ही कहा कि हमारी अर्थव्यवस्थाएं एक-दूसरे पर टिकी हुई हैं। इन्हें जबरदस्ती अलग करना ट्रेंड के खिलाफ है, इससे सिर्फ नुकसान होगा।"

चीन के राजदूत ने कहा कि 2018-19 में भारत में 92% कंप्यूटर, 82% टीवी, 80% ऑप्टिकल फाइबर, 85% मोटरसाइकिल कंपोनेंट चीन से इंपोर्ट हुए। इससे व्यापार में ग्लोबलाइजेशन का पता चलता है। आप चाहें या नहीं चाहें, इस ट्रेंड को बदलना मुश्किल है।

अधिकारियों का कहना है कि चीनी सैनिकों ने सुदूर पश्चिमी क्षेत्र में भारत के क्षेत्र में घुसपैठ की है। हालाँकि, चीन का दावा है कि उसने LAC का उल्लंघन नहीं किया है। विदेश मंत्रालय ने एक ऑनलाइन ब्रीफिंग में कहा कि दोनों पक्षों द्वारा सहमति के रूप में लद्दाख में सैनिकों के पीछे हटने का प्रोसेस पूरा नहीं हुआ है और कमांडर-स्तरीय वार्ता का एक और दौर जल्द ही आयोजित किया जाएगा।
 



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
ताज़ा खबर

Copyright @ 2020 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.