Japanese प्रधानमंत्री किशिदा ने पेलोसी से मुलाकात की, चीन के अभ्यास को 'गंभीर समस्या’ बताया

Samachar Jagat | Friday, 05 Aug 2022 09:44:25 AM
Japanese PM Kishida meets Pelosi, calls China's exercise a 'serious problem'

तोक्यो : जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा ने शुक्रवार को कहा कि ताइवान की ओर लक्षित चीन का सैन्य अभ्यास एक ''गंभीर समस्या’’ के दिखाता है, जिससे क्षेत्रीय शांति एवं सुरक्षा को खतरा है। दरअसल, अभ्यास के तौर पर चीन द्बारा दागी गयी पांच बैलिस्टिक मिसाइलें जापान के विशेष आर्थिक क्षेत्र में गिरीं।किशिदा ने अमेरिकी संसद की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी और क ांग्रेस के उनके प्रतिनिधिमंडल के साथ सुबह के नाश्ते के बाद कहा कि मिसाइल प्रक्षेपणों को ''तुरंत रोके’’ जाने की आवश्यकता है।

गौरतलब है कि ताइवान पर अपना दावा जताने वाले चीन ने पेलोसी की यात्रा को उकसावा बताया था और बृहस्पतिवार को ताइवान के आसपास के छह क्षेत्रों में मिसाइल दागने समेत सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया था। उसने धमकी दे रखी है कि अगर जरूरत पड़ी तो वह ताइवान पर बलपूर्वक कब्जा जमा लेगा। पेलोसी ने बुधवार को ताइपे में कहा था कि स्व-शासित द्बीप तथा दुनिया में कहीं भी लोकतंत्र के लिए अमेरिका की प्रतिबद्धता ''अटल’’ है। जापान के रक्षा मंत्री नुबुओ किशी ने कहा कि जापान के मुख्य द्बीप के सुदूर दक्षिण में स्थित हातेरुमा में बृहस्पतिवार को पांच मिसाइलें गिरीं। उन्होंने कहा कि जापान ने यह कहते हुए चीन के समक्ष विरोध दर्ज कराया है कि मिसाइलेां से ''जापान की राष्ट्रीय सुरक्षा और जापानी लोगों की जिदगियों को खतरा है, जिसकी हम कड़ी निदा करते हैं।’’

जापान के विदेश मंत्री योशिमासा हयाशी ने कहा कि चीन के कदम ''क्षेत्र तथा अंतरराष्ट्रीय समुदाय में शांति एवं स्थिरता को बुरी तरह प्रभावित कर रहे हैं तथा हम सैन्य अभ्यास को तत्काल रोके जाने की मांग करते हैं।’’ हयाशी कंबोडिया में एक क्षेत्रीय बैठक में भाग ले रहे हैं। किशिदा ने कहा कि शुक्रवार को सुबह के नाश्ते पर पेलोसी और क ांग्रेस के उनके प्रतिनिधिमंडल ने चीन, उत्तर कोरिया और रूस को लेकर अपनी साझा सुरक्षा चिताओं पर चर्चा की तथा ताइवान में शांति एवं स्थिरता के लिए काम करने की अपनी प्रतिबद्धता जतायी। पेलोसी का जापान के अपने समकक्ष निचले सदन के अध्यक्ष हिरोयुकी होसोदा से भी बातचीत करने का कार्यक्रम है।

जापान और उसका मुख्य सहयोगी अमेरिका चीन के बढ़ते दबदबे से निपटने के लिए हिद-प्रशांत क्षेत्र और यूरोप में अन्य लोकतंत्रों के साथ नयी सुरक्षा और आर्थिक रूपरेखाओं पर जोर देता रहा है। बृहस्पतिवार को सात औद्योगिक राष्ट्र के समूह के विदेश मंत्रियों ने एक बयान जारी कर अमेरिका और चीन दोनों से दौरे के मद्देनजर “अधिकतम संयम” बरतने और “भड़काऊ कार्रवाई से बचने” को कहा था वहीं, चीन ने बृहस्पतिवार को कंबोडिया में दक्षिणपूर्व एशियाई देशों के संघ (आसियान) की बैठक से इतर चीन और जापान के विदेश मंत्रियों के बीच वार्ता अंतिम क्षण में रद्द करने पर नाखुशी जतायी। 



 

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.