Omicron से बचाने के लिए लोगों को मेटल बॉक्स में बंद कर रहा ये देश, बाहर निकलने पर होती है पिटाई

Samachar Jagat | Thursday, 13 Jan 2022 02:33:13 PM
This country is locking people in metal boxes to protect them from Omicron

बीजिंग: कोरोना वायरस का नया और खतरनाक रूप दुनिया भर में ओमाइक्रोन कहर बरपा रहा है. इस बीच, चीन कथित तौर पर इस संस्करण से बचने के लिए अपने देश में सख्त नियम लागू कर रहा है। चीन की कम्युनिस्ट सरकार आन्यांग समेत कई शहरों में लॉकडाउन लगाकर 2 करोड़ से ज्यादा लोगों को घरों में बंद रहने पर मजबूर कर रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चीन ने अब तक आन्यांग और युझोउ शहरों में कुल दो करोड़ लोगों के घरों से निकलने पर रोक लगा दी है. इतना ही नहीं, उन्होंने बड़े पैमाने पर क्वारंटाइन कैंप नेटवर्क भी बनाया है जहां हजारों धातु के बक्से बनाए गए हैं। इन मेटल बॉक्स में गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों, बच्चों समेत सभी लोगों को क्वारंटीन किया जा रहा है.

दरअसल, ओमिक्रॉन वेरिएंट के दो मामले सामने आने के बाद 55 लाख (5.5 मिलियन) की आबादी वाले आन्यांग के अलावा अन्य शहरों में सोमवार की देर रात लॉकडाउन लगाया गया। रिपोर्ट के मुताबिक जीरो कोविड पॉलिसी के तहत चीन में जिन नियमों के तहत सख्त लॉकडाउन लगाया गया है, उन्हें 'दुनिया का सबसे सख्त लॉकडाउन' कहा गया है। चीन मानवाधिकारों के मूत वर्षों में अपने देश के लोगों पर बेहद क्रूर प्रतिबंध लगा रहा है। चीन की जिनपिंग सरकार द्वारा साझा की गई तस्वीरों के अनुसार, शिजियाझुआंग प्रांत में 108 एकड़ के बड़े क्षेत्र में एक संगरोध परिसर स्थापित किया गया है। वहां के लोगों को क्वारंटाइन करने के लिए 2 हफ्ते के लिए धातु के छोटे-छोटे बक्सों में बंद किया जा रहा है। उन्हें उसी धातु के डिब्बे में बिस्तर और अधिक शौचालय भी दिए गए हैं।


 
लोगों ने क्वारंटाइन कैंप से निकलने के बाद कहा कि उन्हें ठंडे धातु के डिब्बे में रखा गया और उन्हें ठीक से खाना भी नहीं दिया गया. उन्होंने कहा कि वे कई दिनों तक भूखे रहे। लोग अपना घर छोड़कर यहां रहने को मजबूर हैं। उन्हें बसों से यहां लाया गया था। चीनी सरकार से नाराज एक शख्स ने मीडिया को बताया, ''यहां कोई सुविधा नहीं दी जा रही है.'' हम जिंदा हैं या नहीं इससे किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता। इन 2 हफ्तों में हमसे कोई मिलने भी नहीं आया। ये कैसा क्वारंटाइन सेंटर है? गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों और बच्चों को यहां रखा जाता है और बाहर निकलने पर उन्हें मार दिया जाता है।''



 
loading...


Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.