विदेशी भी चाहते हैं अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति और मोक्ष प्राप्ति, गया में करेंगे पिंडदान

Samachar Jagat | Friday, 08 Sep 2017 12:18:34 PM
Pind Daan at Gaya

गया। बिहार के गया जिले में चल रहे पितृपक्ष मेले में रूस, स्पेन और जर्मनी से आए विदेशी भी पूर्वजों की आत्मा की शांति और मोक्ष प्राप्ति के लिए पिंडदान और तर्पण करेंगे। पूर्वजों के पिंडदान और तर्पण के लिए रूस, स्पेन और जर्मनी से 18 विदेशियों का एक जत्था गया पहुंचा और वे अगले तीन दिनों तक यहां रूककर अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति और उनके मोक्ष के लिए तर्पण एवं पिंडदान करेंगे।

ऐसे करें अपने पितरों की पहचान

विदेश से आने वाले इन श्रद्धालुओं ने कहा कि उन्होंने गया में पिंडदान के बारे में बहुत कुछ सुन रखा है और उससे प्रभावित होकर अपने पूर्वजों को सम्मान देने के लिए यहां आए हैं। रूस की अनंतोलल्ला ने कहा, मैं अपने पति, परिवार और देश में शांति के लिए यहां आयी हूं। गया में पूर्वजों को लेकर होने वाले इस अनुष्ठान के बारे में मैंने सुन रखा था जिससे यहां आने के लिए प्रेरित हुई। 

वास्तु के अनुसार उत्तर-पूर्व की और नहीं होना चाहिए बेड

जर्मनी से आयीं अन्ना बैरोन ने कहा कि उनके परिवार और घर में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है, इसलिए वह अपने इस दुर्भाग्य से छुटकारा पाने के लिए यहां आई हैं। मगध क्षेत्र के आयुक्त जितेंद्र श्रीवास्तव के निर्देश पर जिला प्रशासन ने पितृपक्ष मेला के अवसर पर आए इन विदेशियों का स्वागत गया रेलवे स्टेशन पर फूल माला पहनाकर किया। पितृपक्ष मेला गत मंगलवार से शुरू हुआ था और आगामी 20 सितंबर तक जारी रहेगा। इसको लेकर जिला प्रशासन द्वारा व्यापक इंतजाम किए गए हैं और मेले इस बार 10 लाख श्रद्धालुओं के भाग लेने की संभावना जताई गई है। -एजेंसी

READ MORE :-

जानिए! क्यों रखा जाता है बेडरूम का गेट एक पल्ले का

भगवान कृष्ण को प्रिय है 8 अंक, जानें इसके पीछे के रहस्य

जानिए क्यों रखा जाता है घर के अंदर मोरपंख



 

यहां क्लिक करें : हर पल अपडेट रहने के लिए डाउनलोड करें, समाचार जगत मोबाइल एप। हिन्दी चटपटी एवं रोचक खबरों से जुड़े और अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें!

loading...
रिलेटेड न्यूज़
ताज़ा खबर

Copyright @ 2021 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.