प्रमुख जलवायु वैज्ञानिकों के अनुसार उपनिवेशवाद के साथ जलवायु परिवर्तन का गहरा संबंध

Samachar Jagat | Monday, 25 Apr 2022 02:17:31 PM
Climate change closely related to colonialism, according to leading climate scientists

कैम्ब्रिज। (द कन्वरसेशन) जलवायु परिवर्तन पर अंतर्राष्ट्रीय पैनल (आईपीसीसी) की इस महीने की शुरुआत में प्रकाशित, छठी और नवीनतम रिपोर्ट हमारे ग्रह पर ग्लोबल वाîमग के प्रभाव पर, अपने पूर्ववर्तियों की कई चेतावनियों को दोहराती है: मुख्यत: इसमें यह कहा गया है कि अगर जलवायु परिवर्तन को टालने के उपाय नहीं किए गए तो यह वैश्विक आपदा का कारण बन सकता है। हालांकि रिपोर्ट में एक महत्वपूर्ण तथ्य अपने आप में अलग है।


संस्थान के इतिहास में पहली बार, आईपीसीसी ने अपनी रिपोर्ट के सारांश में ''उपनिवेशवाद’’ शब्द को शामिल’’किया है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि उपनिवेशवाद ने जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को और बढ़ा दिया है। विशेष रूप से, उपनिवेशवाद के ऐतिहासिक और मौजूदा रूपों ने जलवायु परिवर्तन के प्रभावों के प्रति विशिष्ट लोगों और स्थानों की भेद्यता को बढ़ाने में मदद की है। आईपीसीसी 199० से जलवायु परिवर्तन पर वैज्ञानिक रिपोर्ट तैयार कर रहा है।


लेकिन अपने 3० से अधिक वर्षों के विश्लेषण में, इसने अभी तक जलवायु परिवर्तन और उपनिवेशवाद के बीच संबंधों पर कभी चर्चा नहीं की है। आईपीसीसी के शब्दकोष में एक नया शब्द जोड़ना यूं तो अपने आप में कुछ खास अहम नहीं लगता है। लेकिन उपनिवेशवाद अपने आप में एक गहरा जटिल शब्द है। किसी अन्य समूह के क्षेत्र पर पूर्ण या आंशिक नियंत्रण प्राप्त करने की प्रथा का उल्लेख करते हुए, इसमें बसने वालों द्बारा उस भूमि पर कब्जा करने के साथ-साथ उपनिवेश समूह को लाभ पहुंचाने के लिए भूमि का आर्थिक शोषण शामिल हो सकता है।


ऑस्ट्रेलिया में, जहां से मैं आता हूं, ब्रिटिश उपनिवेशवादियों ने 18वीं शताब्दी के अंत में आदिवासी लोगों की भूमि पर आक्रमण किया और तब से वहां स्थायी बस्तियां स्थापित करने के लिए काम किया। यह शांतिपूर्ण प्रक्रिया नहीं थी। इसमें आदिवासी और टोरेस स्ट्रेट आइलैंडर लोगों के व्यापक नरसंहार, उन लोगों को उनकी भूमि से जबरन हटाने और बच्चों को उनके परिवारों से जबरन अलग करने सहित बेदखली के हिसक कार्य शामिल थे।


जलवायु परिवर्तन को उपनिवेशवाद के ऐसे कृत्यों से जोड़ने में यह स्वीकार करना शामिल है कि ऐतिहासिक अन्याय इतिहास के लिए नहीं हैं: उनकी विरासतें वर्तमान में जीवित हैं। उदाहरण के लिए, शोधकर्ताओं ने दिखाया है कि आज ऑस्ट्रेलिया में झाड़ियों की आग का पैमाना - जिसमें 2019-20 की भयावह आग भी शामिल है - अकेले जलवायु परिवर्तन से नहीं बढ़ रही है। यह स्वदेशी लोगों के अपनी भूमि से औपनिवेशिक विस्थापन और उनकी भूमि प्रबंधन प्रथाओं के टूटने से भी बढ़ा है जो कि परिदृश्यों को फलने-फूलने में मदद करने के लिए कुशलतापूर्वक नियंत्रित आग का उपयोग करते थे।


इसी वजह से यह महत्वपूर्ण है कि उपनिवेशवाद शब्द को न केवल नवीनतम रिपोर्ट के पूर्ण, अधिक तकनीकी भाग में शामिल किया गया है, बल्कि इसे संक्षिप्त ''नीति निर्माताओं के सारांश’’ में भी शामिल किया गया है, जो आईपीसीसी की रिपोर्ट का सबसे व्यापक रूप से उद्धृत और पढ़ा गया हिस्सा है। इस सारांश में जलवायु परिवर्तन को उपनिवेशवाद से जोड़कर, आईपीसीसी दुनिया की सरकारों और नीति निर्माताओं को एक संदेश भेज रहा है कि उपनिवेशवाद की विरासतों को संबोधित किए बिना जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को संबोधित नहीं किया जा सकता है।


यह एक संदेश है जो यह भी स्वीकार करता है कि जलवायु न्याय आंदोलन ने लोगों के विभिन्न समूहों पर जलवायु परिवर्तन के असमान प्रभावों की पहचान के लिए लंबे समय तक कैसे अभियान चलाया है।
संबंध का समय आईपीसीसी ने आखिरकार इस संबंध को स्वीकार करने के लिए क्यों चुना है, इसके कई कारण सामने आते हैं। उपनिवेशवाद से सबसे अधिक प्रभावित लोगों ने रिपोर्ट बनाने की आईपीसीसी की प्रक्रिया के दौरान अभियान चलाया और इसमें बेहतर पहुंच प्राप्त की। पिछली रिपोर्टों में स्वदेशी समूहों और गैर-पश्चिमी देशों के लेखकों को शामिल न किए जाने की आलोचना की गई थी। इसके विपरीत, नवीनतम रिपोर्ट में, लगभग 44% लेखक ''विकासशील देशों और संक्रमण में अर्थव्यवस्था वाले देशों’’ से हैं, पिछली रिपोर्ट में 37% से अधिक।


लेखक भी अधिक विविध अनुशासनात्मक पृष्ठभूमि से आते हैं, जिसमें मनुष्य जाति के विज्ञान, इतिहास और दर्शन के साथ-साथ विज्ञान और अर्थशास्त्र के लेखक भी शामिल हैं। 2014 में आईपीसीसी की पांचवीं रिपोर्ट पूरी होने के बाद से जलवायु परिवर्तन और उपनिवेशवाद के बीच संबंधों का प्रदर्शन करने वाला साहित्य भी बढ़ा है। उदाहरण के लिए, पोटावाटोमी दार्शनिक और जलवायु न्याय विद्बान काइल व्हाईट के स्वदेशी लोगों को उनकी भूमि से बेदखल करने और पर्यावरणीय क्षति के बीच सीधे संबंधों पर आधारित शोध को नवीनतम रिपोर्ट में उद्धृत किया गया है। फिर भी आईपीसीसी द्बारा इसके महत्व को स्वीकार किए जाने के बावजूद, यह नवीनतम रिपोर्ट का केवल एक हिस्सा है जो इस संबंध को विकसित करता है।


आईपीसीसी रिपोर्ट में तीन खंड हैं, जिन्हें विभिन्न कार्य समूहों द्बारा तैयार किया गया है। पहला खंड जलवायु परिवर्तन के भौतिक विज्ञान का आकलन करता है; दूसरा जलवायु परिवर्तन के प्रभावों को शामिल करता है; और तीसरा इन प्रभावों को कम करने के संभावित तरीकों से संबंधित है। इनमें केवल दूसरा खंड  उपनिवेशवाद पर चर्चा करता है।


जलवायु इतिहास
जलवायु ज्ञान के इतिहासकार के रूप में, मेरा तर्क है कि उपनिवेशवाद का विश्लेषण भी जलवायु विज्ञान को कवर करने वाले पहले खंड में शामिल किया जाना चाहिए।
अनुसंधान से यह तेजी से सिद्ध होता जा रहा है कि जलवायु विज्ञान साम्राज्यवाद और उपनिवेशवाद में निहित है।
इतिहासकार डेबोरा आर. कोएन ने बताया कि समकालीन जलवायु परिवर्तन विज्ञान के प्रमुख तत्वों की उत्पत्ति 19वीं शताब्दी के हैब्सबर्ग साम्राज्य की शाही महत्वाकांक्षाओं के कारण हुई।
उदाहरण के लिए, यह हैब्सबर्ग साम्राज्यवादी राजनीति थी, जिसने वैज्ञानिकों को स्थानीय तूफानों के विकास और वायुमंडलीय परिसंचरण के बीच संबंधों की समझ विकसित करने में मदद की।
यही नहीं, अधिकांश ऐतिहासिक मौसम संबंधी डेटा, जिस पर समकालीन जलवायु वैज्ञानिक भरोसा करते हैं, उपनिवेशवादी शक्तियों द्बारा निर्मित किया गया था।
19वीं सदी के मध्य के अंग्रेजी जहाजों की लॉगबुक से वैज्ञानिकों द्बारा निकाले गए डेटा को लें।
यह जानकारी ब्रिटिश साम्राज्य द्बारा उपनिवेशित क्षेत्रों को बेहतर ढंग से जोड़ने और अन्य लोगों की भूमि और पानी के दोहन में तेजी लाने के प्रयास के हिस्से के रूप में दर्ज की गई थी।
आईपीसीसी जलवायु परिवर्तन और उपनिवेशवाद के बीच इस प्रकार के संबंधों से कैसे निपटेगा, यह देखा जाना बाकी है, लेकिन मुझे उम्मीद है कि यह जल्द ही अपने तीनों कार्य समूहों में उपनिवेशवाद को स्वीकार करेगा। 



 

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.