फर्जी उपग्रह छवियों के खिलाफ डेटा साक्षरता हमारा सबसे अच्छा हथियार है

Samachar Jagat | Wednesday, 27 Apr 2022 03:16:02 PM
Data literacy is our best weapon against fake satellite images

वाशिगटन। एक नया एल्गोरिदम उच्च स्तर की सटीकता के साथ नकली उपग्रह छवियों का पता लगा सकता है। मानचित्रों ने हमेशा सफ़ेद झूठ बोला है। अपनी किताब ''हाउ टू लाइ विद मैप्स'' में मार्क मोनमोनियर ने इन शब्दों को स्पष्ट करने के लिए एक समतल सतह पर घुमावदार पृथ्वी दिखाने के लिए रूप से कुछ विकृतियां दिखाई हैं।


हम जानते हैं कि नकली उपग्रह चित्र मौजूद हैं। सवाल यह है कि हम उनका पता कैसे और कितनी मज़बूती से लगा सकते हैं। एक नया मशीन-लîनग एल्गोरिदम 94 प्रतिशत सटीकता के साथ एक विशेष प्रकार की नकली उपग्रह छवि को ढूंढ़ सकता है, लेकिन डेटा साक्षरता फर्जी छवियों से असली छवियों को ढूंढ़ने का सबसे अच्छा तरीका है।


जनरेटिव एडवरसैरियल नेटवर्क (जीएएन) (उत्पादक विरोधात्मक तंत्र) का उपयोग ज्यादातर नकली चित्र बनाने के लिए किया जाता है। कभी-कभी परिणाम अपेक्षित नहीं होते हैं, जैसा कि हाल ही में यूक्रेन को राष्ट्रपति वोलोदिमीर ज़ेलेंस्की के नकली वीडियो के साथ हुआ है।


साइकिल-जीएएन का उपयोग करते हुए, शोधकर्ताओं ने अमेरिकी राज्य वाशिगटन के एक शहर टैकोमा के नकली नक्शे बनाए। नकली नक्शों में सिएटल, वाशिगटन और चीनी शहर बीजिग की कुछ विशेषताएं शामिल थीं। जीएएन में एक जनरेटर नेटवर्क और एक विभेदक नेटवर्क होता है, जो सामंजस्य के माध्यम से तब तक काम करते हैं, जब तक कि वे डेटा की विशेषताओं के अनुरूप एक ठोस नकली उत्पाद नहीं बन जाता।


नग्न आंखों से देखने वालों को टैकोमा का नकली नक्शा प्रामाणिक लग रहा था। एल्गोरिदम ने नकली को चुन लिया- वह थोड़े कम रंगीन थे और वास्तविक छवियों की तुलना में उनके किनारे तेज थे। 



 

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.