Health News: अगर आप भी खाते हैं चमकदार सेब तो हो सकती है मौत!

Samachar Jagat | Saturday, 09 Apr 2022 11:30:58 AM
If you also eat a shiny apple, you can die!

सेब खाना बहुत से लोगों को पसंद होता है और सेब को सबसे पौष्टिक फलों में से एक माना जाता है। जी हां, क्योंकि इसका कारण सेब का पोषण है। आप सभी को बता दें कि 100 ग्राम सेब में 52 कैलोरी, 0.3 ग्राम प्रोटीन, 13.8 ग्राम कार्ब्स, 10.4 ग्राम चीनी, 2.4 ग्राम फाइबर, 0.2 ग्राम वसा और 86 प्रतिशत पानी होता है। जी हां, और आज के समय में लोग बाजार से ताजा और चमकदार सेब लाते हैं, जिससे हर कोई इन्हें खाकर ताकतवर बन जाता है. लेकिन इन चमकदार सेबों को देखकर ऐसा लगता है कि ये ताजे हैं हालांकि ऐसा नहीं होता है।

जी हां, हाल ही में हुई एक स्टडी के मुताबिक ताजा और चमकदार दिखने वाले ये सेब गंभीर बीमारी का कारण बन सकते हैं। हां, और अगर समय पर लक्षणों की पहचान और इलाज नहीं किया गया तो मौत का खतरा भी बढ़ सकता है। आप सभी को बता दें कि ताजा और चमकदार सेब को लेकर भारत में हुई स्टडी ने सभी को हैरान कर दिया है. दरअसल, यह अध्ययन दिल्ली यूनिवर्सिटी, मैकमास्टर यूनिवर्सिटी और कनाडा के शोधकर्ताओं ने संयुक्त रूप से किया है और इसे अमेरिकन सोसाइटी फॉर माइक्रोबायोलॉजी के जर्नल में प्रकाशित किया गया है। इतना ही नहीं, इस अध्ययन के अनुसार, 13 प्रतिशत कैंडिडा ऑरिस स्टोरहाउस में रखे सेब में पाया गया। आपको बता दें कि स्टोरहाउस वह जगह है जहां सेब को स्टोर करके रखा जाता है। दरअसल, लंबे समय तक फलों को स्टोर करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले केमिकल के कारण सेब की सतह पर कैंडिडा ऑरिस पाया गया था। जी हां, और कैंडिडा ऑरिस एक प्रकार का फंगस है जो फंगस की तरह फैलता है। आपको बता दें कि इससे कई जानलेवा बीमारियां हो सकती हैं। दरअसल, सेब की सतह पर कैंडिडा ऑरिस को खोजने के लिए शोधकर्ताओं ने उत्तर भारत के 62 सेबों की जांच की और इन सेबों में 42 सेब बाजार से और बाकी 20 सेब सीधे बगीचे से लिए गए।


 
अध्ययन का निष्कर्ष- आपको बता दें कि यह शोध सेब की 2 किस्मों रेड डिलीशियस और रॉयल गाला पर किया गया था। जी हां और अध्ययन के बाद शोधकर्ताओं ने पाया कि कैंडिडा ऑरिस 62 में से 8 सेबों की सतह पर पाया गया। इतना ही नहीं, निष्कर्ष में पाया गया कि जिन 8 सेबों पर कैंडिडा ऑरिस मिला, उनमें से 5 सेब रेड डिलीशियस और तीन रॉयल गाला थे। इसके अलावा, शोध में पाया गया कि बगीचों से लाए गए सेबों में कैंडिडा ऑरिस का कोई सबूत नहीं था, जबकि बाजार से लिए गए सेबों ने समय के साथ कैंडिडा ऑरिस विकसित किया। जी हाँ और इसका कारण यह है कि बहुत से फल देने वाले फल अपने स्वयं के जीवन के कारण और लंबे समय तक उनका उपयोग करने में सक्षम होने के कारण उन पर रसायनों का छिड़काव करते हैं, जिससे कैंडिडा ऑरिस विकसित होता है।

दरअसल, रोग नियंत्रण और रोकथाम के अनुसार कैंडिडा ऑरिस रोग फैलाने वाले 5 कवकों की सूची में आता है, जो शरीर में कई प्रकार की बीमारियों का कारण बन सकता है। इतना ही नहीं, मेडिकलन्यूस्टोडे के अनुसार, कैंडिडा ऑरिस संक्रमण के लक्षणों को पहचानना चुनौतीपूर्ण मानती है, क्योंकि यह आमतौर पर पहले से ही बीमार लोगों को अपना शिकार बनाती है। आपको बता दें कि कैंडिडा ऑरिस शरीर के किस अंग को प्रभावित कर रहा है, इसके लक्षण अलग-अलग हो सकते हैं। यह घाव रक्त प्रवाह सहित कई जगहों पर विकसित हो सकता है। हां, और इसके सामान्य लक्षणों में बुखार और ठंड लगना शामिल हैं। इसकी पहचान के लिए लैब में टेस्ट किया जाता है। यदि इसकी पहचान हो जाती है, तो इसका प्रारंभिक उपचार तुरंत आवश्यक है, अन्यथा यह पूरे शरीर या रक्त में फैल जाता है और गंभीर बीमारी के लक्षण पैदा कर सकता है। इससे मौत का खतरा भी हो सकता है।



 

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.