2022 में फिट रहने के लिए आज से ही लाइफस्टाइल में करें ये 5 बदलाव, बीमारियां और इंफेक्शन दोनों रहेंगे दूर

Samachar Jagat | Thursday, 21 Apr 2022 02:46:50 PM
Make a lifestyle change today to stay fit in 2022. This change, disease and infection will be gone.

दादा-दादी बचपन से ही बच्चों को बहुत कुछ सिखाते हैं। हालांकि आजकल बच्चे पाश्चात्य संस्कृति का अधिक पालन करना पसंद करते हैं। ऐसे में लोग कई अच्छी आदतें छोड़ रहे हैं। यहां कुछ आदतें हैं जो आपके स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद हो सकती हैं।

जमीन पर बैठना और खाना - दादा-दादी के समय में दावतें ज्यादातर अलग होती थीं। भोज में मेहमानों को आमंत्रित किया गया और फिर जमीन पर बैठकर भोजन कराया गया। ऐसा करने से पेट अच्छे से भरता है और साथ ही स्वभाव का अहसास भी होता है। आजकल बहुत से

आज भी घरों में जमीन पर खाना परोसा जाता है। जमीन पर बैठकर खाना बहुत जरूरी है, क्योंकि यह आपके पाचन तंत्र के लिए अच्छा होता है। भोजन करने के लिए आगे-पीछे झुककर धीरे-धीरे अपने अग्न्याशय की मालिश करें और पाचन तंत्र को सक्रिय करें।


भोजन के बीच में पानी न पियें - बच्चों को शुरू से ही भोजन के साथ पानी न पीने की शिक्षा दें। बच्चे अक्सर भोजन के साथ एक गिलास पानी रखते हैं ताकि वे भोजन के बीच इस पानी को पी सकें। दरअसल, खाना खाते समय पानी पीने से गैस्ट्रिक गैस बनती है, जिससे खाना धीरे-धीरे पचता है। ऐसे में एसिडिटी भी हो जाती है। इस तरह भोजन के साथ पानी पीने से ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है।

सूर्यास्त के समय भोजन करना - कई माता-पिता अपने बच्चों को जल्दी खाने की सलाह देते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि आयुर्वेद में लिखा है कि रात के पहले पहर में भोजन करना चाहिए, यह आपके शरीर और प्राकृतिक चक्र के बीच सामंजस्य बनाने में मदद करता है। ऐसा करने से आप मोटापे और पाचन संबंधी समस्याओं से बच सकते हैं।


हाथ से खाना- आज के बच्चों के माता-पिता जब हाथ से खाते हैं तो बच्चों को शर्म आती है। क्योंकि इन दिनों हर पश्चिमी संस्कृति का बहुत पालन किया जाता है। हम में से ज्यादातर लोग आज भी रोटी और चावल हाथों से खाते हैं। ऐसा माना जाता है कि हाथ से खाने का मतलब है सभी इंद्रियों से

खाना खा रहा हूँ। आप सूंघ सकते हैं, छू सकते हैं, चख सकते हैं, आवाज कर सकते हैं और देख सकते हैं कि आप क्या खाते हैं। यह खाने के स्वाद को बढ़ाता है और इसलिए आप हाथ से बाहर खाने के बाद हमेशा संतुष्ट महसूस करेंगे। हालांकि, अपने हाथों से खाने से पहले, सुनिश्चित करें कि आपके हाथ अच्छी तरह से धोए गए हैं।


घर को फुटवियर फ्री जोन रखना - अगर आप भारत के किसी ग्रामीण शहर में जाते हैं, तो गेट के बाहर अपने जूते उतारने की परंपरा अभी भी है। कई घरों में बाथरूम के लिए अलग स्लीपर होते हैं ताकि कोई भी दूषित पदार्थ रहने की जगह में प्रवेश न कर सके। लेकिन समय के साथ, यह बदलने की संभावना है। घर में फुटवियर पहनकर आप आसानी से खराब बैक्टीरिया या कीटाणुओं से छुटकारा पा सकते हैं। जिसका असर आपकी सेहत पर भी पड़ सकता है।


बैठकर पानी पीना- आजकल बच्चों को सफर के दौरान पानी पीने की आदत होती है। ऐसे में अक्सर माता-पिता या दादा-दादी को बैठकर पानी पीने के लिए कहा जाता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि वे जानते हैं कि खड़ा पानी हमारे शरीर में द्रव संतुलन को कितनी बुरी तरह बिगाड़ देता है। हेल्थ रिपोर्ट्स के मुताबिक, खड़े होकर पानी पीने से जोड़ों में ज्यादा तरल पदार्थ जमा हो जाता है। यह गठिया का कारण भी बन सकता है, इसलिए खड़े होकर पानी पीने से बचना सबसे अच्छा है।


सुबह की सफाई :- इन दिनों लोग सुबह सो जाते हैं ऐसे में सुबह सफाई करना कई लोगों को परेशान कर रहा है। कुछ लोग सुबह नहाने और साफ करने के बाद ही कुछ खाते हैं। सुबह नहाना और तरोताजा होना बहुत जरूरी है क्योंकि इससे आपका पूरा नजरिया बदल जाता है।

इसके अलावा, दिन भर में जमा होने वाले सभी कीटाणुओं और जीवाणुओं के लिए एक स्वच्छ वातावरण बनाने के लिए सुबह जल्दी स्नान करना महत्वपूर्ण है। इस तरह आपके मुंह के कोनों और कैविटी में फंसे खाने के टुकड़े साफ हो जाएंगे।

 



 

Copyright @ 2022 Samachar Jagat, Jaipur. All Right Reserved.